Skip to main content

Posts

Showing posts from February, 2022

कुछ क्षण ऐसे भी आते हैं ! 10 May 2022

 कभी कभी घिर जाते हैं हम गहरे किसी दलदल में, फँस जाते हैं जिंदगी के चक्के किसी कीचड़ में, तब जिंदगी चलती भी है तो रेंगकर, लगता है सब रुका हुआ सा। बेहोशी में लगता है सब सही है, पता नहीं रहता अपने होने का भी, तब बेहोशी हमें पता नहीं लगने देती कि होश पूरा जा चुका है। ठीक भी है बेहोशी ना हो तो पता कैसे लगाइएगा की होश में रहना क्या होता है, विपरीत से ही दूसरे विपरीत को प्रकाश मिलता है अन्यथा महत्व क्या रह जायेगा किसी भी बात का फिर तो सही भी ना रहेगा गलत भी ना रहेगा सब शून्य रहेगा। बेहोशी भी रूकती नहीं हमेशा के लिए कभी आते हैं ऐसे क्षण भी जब एक दम से यूटूर्न मार जाती है आपकी नियति, आपको लगता है जैसे आँधी आयी कोई और उसने सब साफ कर दिया, बेहोशी गिर गयी धड़ाम से जमीन पर, आपसे अलग होकर। अभी आप देख पा रहे हो बाहर की चीजें साफ साफ, आपको दिख रहा है कि बेहोशी में जो कुछ चल रहा था वो मेरे भीतर कभी नही चला। जो भी था सब बाहर की बात थी, मैं तो बस भूल गया था खुद को बेहोशी में, ध्यान ना रहा था कि सब जो चल रहा था कोई स्वप्न था। खैर जो भी था सही था, जैसी प्रभु की इच्छा, जब मन किया ध्यान में डुबो दिया जब मन कि

सच ये है

 सच ये है कि आप सुनना नहीं चाहते हैं अपने कानों से बाहर की बात, सच ये है कि आप सहन नहीं कर पाते अगर सच आपके पाखण्डों से बाहर खड़ा होकर बोल रहा है, सच यह है कि आप सुनना चाहते हैं उतना सच जितना आपके सीमा में आता है, जितना आप हजम कर पाते हो, जितना सच आपके अहम को तोड़ नहीं रहा है, जितना सच आपके अनुभव , निष्कर्ष को बढ़ावा देता हो। उतना सच जितने में काम चल जाये आप कह सकें कि देखो मैं सच में विश्वास रखता हूँ। उतना सच जितना आपके धर्म को लेकर मिली सीखों को समर्थन करे, उतना सच जितना आपको किताबों ने बताया है और आपने माना हुआ है। उतना सच जितने में आपको असहज महसूस ना करना पड़े अपनों के बीच। उतना सच जिसे भीड़ समर्थन दे और आपकी पीठ थपथपा दे। उतना सच जितने में आप अपने सारे स्वार्थ सिद्ध कर लें और आपकी छवि बरकरार रहे। उतना सच जितने में आप अपनी गलत अवधारणाओं को भी सही बता सकें। पूरा सच सहन करने के लिए बुद्धि नहीं चाहिए होती, उसके लिए नहीं चाहिए सिद्धान्तों का अध्ययन। उसके लिए चाहिए सरलता, इतनी सरलता कि जिसका अहम कुछ रहा नहीं अब, इतना सरल कि जिसका कोई प्रकृति के साथ संघर्ष ना रहा हो। इतना सरल की जो बह सके नदी