Skip to main content

Posts

Showing posts from February, 2021

मौसम बदले जीवन बदले, तुम फिर फिर अपने गीत सुनाना

जीवन है तो मौसम हैं, मरने के बाद बस एक मौसम रहेगा। फिर कभी नए नए मौसम देखने का मौका ना रहेगा। जीवन है तो आयेंगे उबासी भरे दिन, कभी बसंत महोत्सव कभी पतझड़ कभी बरसाती काली रातें। तुम चलते रहना अपनी राह, चाहे कोई भी हो। तुम बदल मत लेना चलने का ढ़ंग सिर्फ़ इसलिए  क्योंकि पूरी दुनिया तुम्हारे साथ गलत कर रही है। तुम रुक मत जाना देखकर कि कितना आसान है सब यहाँ, जहाँ तुम्हारे लिए सब कुछ उपलब्ध हो बिना किसी कठिनता के। तुम बहक मत जाना सुख देखकर, रखना याद की ये केवल एक मौसम है बदल जायेगा, तुम मन मत बना लेना सबसे कट जाने का इसलिए कि तुम्हारे साथ कोई ज्यादती हुई है, तुम ख़ुद से बचकर मत भागना इसलिए कि तुम में कमियाँ बहुत हैं। तुम कोई बोझ मत लाद लेना, अपने कंधे पर की तुम्हारे बिना ये सब काम कोई और ना करेगा। तुम होना खड़े किसी रास्ते पर, देखना ऊपर आसमान में और देखना फिर अपने शरीर को, कोई फ़र्क नहीं है तुम में और इस खुले आसमान में। तुम ऐसे चलना जैसे कोई राजा चलता है, ऐसे बोलना जैसे राजा बोलते हैं। तुम राजी मत हो जाना किसी के गुलाम बनने को, तुम देना सबको जितना दे सको, देखना मत मुड़कर पीछे की तरफ, राजा देते हैं

पौधे पर फूलों का ना खिलना

जैसे किसी बाग में पौधों पर फूल ना खिल सकें तो हवा, पानी, खाद, बीज कई कारण हो सकते हैं परंतु इन सबमें से मुख्य कारण माली का सजग ना होना माना जायेगा, ऐसे ही अगर किसी बच्चे के चेहरे पर अगर फूल ना खिल रहे हों, उसके भीतर से ऊर्जा उछाल नहीं मार रही तो इसका पूरा दोष माता पिता को दिया जाना चाहिए। ~ #ShubhankarThinks

रस कोई निर्झर बह रहा है

रस कोई रग-रग से निर्झर बह रहा है, उद्गम से अनभिज्ञ फिर भी चित्त शांत रह रहा है। हैं जो अनगिनत प्राचीर दिन दिन गिर रही हैं, कुछ अध गिरी दीवार पर से बह रहा है। कल तक भू गर्भ में विस्मृत फंसा था, वो बीज अब बाहें फैलाए बढ़ रहा है। किए गए थे आयोजन जिस घोंसले में, आज वो घर चहचहाहट से भर रहा है। नाचता है रोम रोम संगीत धुन पर, गीत कोई प्रकृति में बज रहा है। किन्हीं संकरे पर्वत के दल में, जैसे बह रहा जल, कल कल के क्रम में, ऐसा कोई नाद मन में हो रहा है। कुछ रह रहा है शेष फिर भी, शेष सब में खो रहा है, है कोई दलदल भी भीतर, "मैं" वहीं कहीं धंस रहा है, बस रहा सब कुछ ही भीतर, कुछ रोज रोज खो रहा है। ~ #ShubhankarThinks

लोग जी कम रहे हैं, बता ज्यादा रहे हैं

 लोग ज़िंदा हैं ऐसे जैसे एहसान जता रहे हैं, जी कम रहे हैं, सबको बता ज्यादा रहे हैं। उधारी में लेते हैं सांस भी सोच समझकर, जैसे बची हुई सांसों से किश्त पटा रहे हैं। ख़ुशी के लिए किए बैठे हैं, हसरतों की डाउनपेमेंट, पजेशन के लिए कमबख्त हंसी बचा रहे हैं। दो तीन की गिनती में बुरे फंस गए हैं, ख़ुद के गणित में ही ख़ुद को फंसा रहे हैं। जी रहे हैं दस प्रतिशत बड़े रूखे हुए मन से, बाकी नब्बे प्रतिशत बच्चों के लिए बचा रहे हैं। गले में कुछ भी फांस लेना प्रथा बन गई है, आंखें मूंदकर सभी ये किए जा रहे हैं। दुख में रहना एक बहादुरी का काम है, घूंट घूंट इस जहर को पिए जा रहे हैं। मूल काट रहे हैं थोड़ा थोड़ा करके, लोग पत्तों की सजावट में जान लगा रहे हैं। लोग जी कम रहे हैं, दिखा ज्यादा रहे हैं।। ~ #ShubhankarThinks