Skip to main content

Independence Day Special: मानसिक गुलामी से आजादी कैसे पायें?

नमस्कार दोस्तों आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें| आजादी के पर्व के इस पावन मौके पर मानसिक गुलामी से आजादी के विषय में कुछ विचार आप सभी के समक्ष रखने जा रहा हूँ| आशा है आप समय देकर पढ़ेंगे|







प्रस्तावना -

                          15 अगस्त 1947 यह तिथि सभी को अच्छे से याद है क्योंकि इस दिन लगभग 800 वर्षों की गुलामी झेल रहे भारत को पूर्ण रूप से आजादी मिली थी| उस दिन से आज तक हम प्रतिवर्ष यह उत्सव के रूप में मनाते हैं और वीर अमर शहीदों को नमन करते हैं| इन सबके बीच भारत ने एक लम्बा सफर तय किया, जिसमें हमने बहुत सारे क्षेत्रों में तरक्की हांसिल की मगर कुछ बातों में हम पहले से भी ज्यादा पिछड़ गए| वह हैं भाईचारा, रिश्ते नाते निभाना या फिर इंसानियत के मायने हों, इन सब में हम कहीं पीछे खड़े हैं| खैर आज इस विषय पर चर्चा नहीं होगी| आज हम चर्चा करेंगे वर्तमान समय में आजादी के मायनों की और किस तरह की आजादी से हम दूर हो चुके हैं|




मेरे अनुसार आजादी की परिभाषा-


वर्तमान समय की दृष्टि से आजादी का तात्पर्य हुकूमत की गुलामी से मुक्ति पाना नहीं है| भारतीय संविधान के अनुसार सभी को स्वतंत्रता मिली हुई है| आज हमें बौद्धिक, वैचारिक और मानसिक गुलामी से आजादी लेने की आवश्यकता है| यह आजादी हमें कोई दूसरा नहीं दे सकता है, हमने खुद को अपनी आदतों से अपनी छोटी समझ और गलत माध्यमों से खुद को किसी और व्यक्ति का गुलाम बना लिया है| यह व्यक्ति कोई भी हो सकता है, यह आपका प्रिय अभिनेता, नेता अथवा कोई दोस्त हो सकता है| कमाल की बात यह है की इस स्थिति में आपको पता नहीं चलता की आप गुलामी कर रहे हैं|



आखिर ऐसी मानसिक गुलामी की शुरुआत कहाँ से हुई?


  • जब भारत में अलग अलग देशों से आक्रमण हो रहे थे और हमारे आपसी भेदभाव के चलते भारत पूरा गुलाम बनता जा रहा था| ऐसे में पूरे 600-800 वर्षों चले इस दौर में भारत की वो विशिष्ट और उत्तम सोचने वाली रक्त कोशिकाओं का अन्दर तक समापन हो चुका था| ऐसे समय पर कुछ ज्ञानी, विद्वान् बचे हुए थे, जो सबसे थोड़ा अलग सोचने में विश्वास रखते थे| ऐसे लोगों ने गुलामी से बाहर आने के लिये, अपने आस पास के लोगों को अपने विचारों से मानसिक रूप से मरे हुए गुलामों को अपने प्रभाव में किया और उन्हें याद दिलाया की भारत हमारा देश है| हम किसी के नौकर नहीं हैं, ये अंग्रेज लोग बाहरी लोग हैं|उस समय अधिकांश लोग अंग्रेजों के यहाँ नौकरी करके मानसिक रूप से उनके पूर्णतयः गुलाम बन चुके थे| ऐसे में हमारे कुछ विशेष नेता लोगों के प्रयासों के चलते लोगों का मानसिक परिवर्तन किया गया और उन्हें आजादी की लड़ाई में जाने के लिए प्रेरित किया और यह सब होने के 20-30 साल से भी ज्यादा समय लगा| देश आजाद हुआ और अब देश में अनेकों नेता उभरकर आये|
  • ऐसे में एक बात सामने आयी, किसी समय पर जगतगुरु कहलाने वाला भारत अब गरीब, अनपढ़ लोगों की एक सँख्या मात्र था| वह भारत जिसने कुछ सौ या हजार नेताओं के नेतृत्व और बलिदान के चलते स्वतंत्रता हासिल कर ली थी| मगर मानसिक रूप से हमें आदत पड़ चुकी थी की हमें निर्देश देने के लिए अथवा हमारे मानसिक विचारों को चलाने के लिए हमेशा किसी व्यक्ति की आवश्यकता होगी| मैं किसी नेता को गलत नहीं कहूँगा या फिर किसी को इसके लिए दोष नहीं दूँगा मगर आजाद भारत की जनता अब उन सभी की इतनी कृतज्ञ बन चुकी थी| उनकी बातों को , उनके फैसलों को पत्थर की लकीर मान लिया गया|

    Credit-


हमारी भूल और कुछ भ्रान्तियाँ-

सभी भूल गए की वह हमारे बीच से निकलकर उभरे हैं| हर व्यक्ति की सोचने की क्षमता अलग होती है, सबके विचार अलग होते हैं इसका प्रमाण हमारी आजादी की लड़ाई थी| जिसमें दो तरह के लोग थे, एक वह थे जो हिंसा करके आजादी प्राप्त करने में विश्वास रखते थे, दूसरे थे अहिंसा के पुजारी| दोनों दलों में एक समानता थी की दोनों एक ही लक्ष्य की प्राप्ति में लगे हुए थे मगर दोनों के विचार बिल्कुल अलग थे| मगर भारत में अंधभक्ति जैसी बीमारी का जन्म उसी समय से हुआ| हमारी नासमझ जनता अलग अलग दल से जुड़ गयी और एक दूसरे को दुश्मन समझने लगी| जबकि उनके शीर्ष नेता एक दूसरे का आदर सम्मान करते थे|
आजाद के बाद भी इसका पूरा प्रभाव देखने को मिला| अब लोग अपने विचार से सोचने समझने की क्षमता खो चुके थे| धीरे धीरे समय बदला पढ़े लिखे लोगों की संख्या बढ़ी और देश ने नए आयाम छूना शुरू किया| मगर मानसिक, बौद्धिक और वैचारिक स्तर पर हम लोग गुलाम बने रहे| भारत की जनसँख्या के साथ गुलामों की सँख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है|



आजादी की वर्तमान स्थिति -


आजादी अब एक त्यौहार बन चुकी है| जो प्रतिवर्ष 15 अगस्त के दिन हमारे फोन के डीपी और तिरंगा फहराने के बाद शाम तक ढल जाती है| यह सवाल बहुत कम लोग अपने आप से करते होंगे की क्या आजाद हूँ मैं? क्या मैं मानसिक, वैचारिक रूप से स्वतंत्रत हूँ| आज हम किसी ना किसी राजनैतिक दल के चश्मे पहनकर घटनाओं को देखना और आँकना शुरू करते हैं| इसे धर्मान्धता कहना उचित होगा, जब हम अपने धर्म को सर्वोपरि मानकर हमारे धर्म के व्यक्ति का बचाव करने के लिए किसी भी स्तर तक गिर जाते हैं| यह निर्णय, यह विचार , यह सोच आपकी नहीं है! यह कई वर्षों से चल रहे प्रवचन, व्हाट्सएप्प मैसेज और दूसरों की दी हुई मिथ्या राय से हमारे विचारों की गुलामी का नतीजा है| इसके परिणाम इतने घातक हैं की हमारे पास खुद ईश्वर का दिया हुआ, मस्तिष्क होने के बाद भी हम गुलामी के चश्मे से चीजों को आँकते हैं|



Credit[/caption]

आजादी कैसे हासिल हो सकती है? 

गुलामी से कैसे बचा जाए? सवाल यह उठता है| गुलामी से बचने के लिए आपको तार्किक रूप से सोचना शुरू करना होगा| चाहे कोई भी       स्थिति हो, कैसी भी घटना हो? आपको सबसे पहले यह समझना होगा की कोई भी बात बिना दो पक्षों के नहीं हो सकती| सिक्के के हमेशा दो पहलू रहेंगे| अब यह आपको खुद निर्णय लेना होगा की कौन सा पक्ष सही है| आप अपने मस्तिष्क को थोड़ा व्यायाम का अभ्यास करायें, उसे मजबूर करें की वह भावनात्मक से ज्यादा तार्किक रूप से कार्य करना शुरू करे| अपने मस्तिष्क को यह प्रशिक्षण दें की वह किसी की भी बातों पर अन्धा विश्वास नहीं करे| कोई आपका प्रिय नेता या अभिनेता है तो इसका मतलब यह नहीं उसे भगवान समझकर आप उसके हर बात को सच मान लें या उसी के अनुसार कार्य करना शुरू कर दें| 

               निष्कर्ष:मानसिक आजादी से जुडी कुछ तार्किक बातें-

भगवान् ने सबको सोचने समझने के लिए अलग अलग दिमाग दिया है तो आप एक जैसे कैसे बन सकते हैं|आपकी परवरिश और किसी दूसरे व्यक्ति की परवरिश में जमीन में अंतर है| उनके अनुभव कुछ और हैं और आपके कुछ और! फिर कैसे आप दोनों एक जैसे निर्णय ले सकते हो| यह सब बातें जब आप मस्तिष्क के गलियारों से घुमाना शुरू करेंगे तो आपके मस्तिष्क के कुछ नए नए द्वार खुलने शुरू होंगे| जिनके अंदर से होकर आप एक अलग दिशा में चले जायेंगे| यह दिशा आपको ऐसा बना देगी की आप अपने मस्तिष्क के स्वयं शासक रहोगे| अगर आप गलत भी करोगे तो आपको खुद पता होगा की आपने गलती की है| फिर आपके दिमाग में गलती को छुपाने के बहाने नहीं आयेंगे| आप एक दिशा में सिमट कर नहीं सोचोगे फिर आपके पास खुद के इतने विचार होंगे की आपको किसी की बात पर अन्धा विश्वास होना अपने आप बंद हो जायेगा|









यह कुछ विचार मेरे दिमाग में चल रहे थे, जिन्हें मैंने आप सभी के समक्ष रखा है| आशा है की आप सभी कुशल मंगल होंगे|


जय हिन्द जय भारत||

#ShubhankarThinks

#HappyIndependenceDay

Comments

  1. Happy independence day
    Bhut hi gahraai se apne apni uttam soch rakhi hai 👌👋👋
    Bilkul sahi kaha apne hm manshik roop se gulam hai or hme ye gulami se ajaadi chahiye or ye ajaadi swayam vichar karke karya krne par hi milegi dhong ya andh viswaas karne se nagi 👍
    Likhte rahiye👍

    ReplyDelete

Post a Comment

Please express your views Here!

Popular posts from this blog

Scientific reasons behind Hindu Rituals

Hinduism is the world’s oldest living religion and there are thousands of customs & traditions. Most of us really don’t know what is the scientific reason behind them even we have no idea about it.

1- Blowing Shankha(Conch shell) - In Hinduism, According to our ancient scriptures that Puranas, the shank originated during the Churning of the ocean (Samudra Manthan) by the Deities and Shri Vishnu held it in the form of weapon. As per a holy verse which is regularly chanted during the puja ritual it is mentioned that by the command of Shri Vishnu the deities Moon, Sun and Varun are stationed at the base of the shank, the deity Prajapati on its surface and all the places of pilgrimage like Ganga and Saraswati in its front part.

We blownShankha before starting any religious event even some of the people blown it every day during their regular prayer.

According to science, the blowing of a conch shell enhances the positive psychological vibrations such as courage, determination hope, op…

प्रेम पत्र २(पत्र का जवाब)

जैसा आपने पिछले पत्र में पढा था कि प्रेमिका रूठकर व्यंगपूर्ण पत्र लिखती है और जब यह पत्र उसके प्रेमी को मिलता है तो वो अपनी प्रेमिका को मनाने और भरोसा दिलाने के मकसद से पत्र का प्रेमपूर्ण जवाब लिखता है मगर मस्तिष्क में चलते गणित के कारण कैसे उसके विचार पत्र के माध्यम से निकलते हैं पढ़िए -



IMG source - http://i.huffpost.com/gen/1178281/images/o-LETTER-TO-EX-facebook.jpg








प्रेमी  अपनी प्रेमिका से -

प्रेमिका मेरी ओ प्राण प्यारी!

तुम्हे एक पल हृदय से ना दूर किया है ,

तुम्हारा और मेरा संग तो रसायन विज्ञान में जल बनाने की प्रक्रिया है !

जैसे हाइड्रोजन नहीं छोड़ सकती ऑक्सीजन का संग,

भगवान ने ऐसा रचा है ,हमारा प्रेम प्रसंग|





दुविधा सुनो मेरा क्या हाल हुआ है,

पूरा समय गति के समीकरणों में उलझ गया है !

कभी बल लगाकर पढ़ाई की दिशा में बढ़ता हूँ,

कभी तुम्हारे प्रेम की क्रिया प्रतिक्रिया से पीछे तुम्हारी दिशा में खींचता हूँ|



मेरे विचारों का पाई ग्राफ उलझ जाता है ,

ये Tan@  के मान की तरह कभी ऋणात्मक अनंत तो कभी धनात्मक अनंत तक जाता है !

मेरे ग्राफ रूपी जीवन में सारे मान अस्थिर हैं ,

मगर तुम्हर स्थान मेरे हृदय में पाई(π) …

पथ भ्रष्ट हैं इसलिए कष्ट हैं

क्यों पस्त हैं, क्या कष्ट है? किस अंधेर का आसक्त है। क्यों पस्त है कुछ बोल तू, अगर कष्ट में तो बोल तू, क्यों लड़ रहा हूं खुद से ही, ज़ुबान है तेरी भी, खोल तू।
क्यों भ्रष्ट हैं, वो मस्त हैं, वो निगल रहे हैं सारा देश! हम कष्ट में, पथ भ्रष्ट हैं, नहीं बच रहा है कुछ भी शेष। वो भ्रष्ट हैं क्योंकि हम कष्ट में, वो मस्त हैं क्योंकि ख़ुद हम भ्रष्ट हैं।
जो सख़्त हैं वो लड़ रहे हैं, जो कष्ट में भी बढ़ रहे हैं! जो कष्ट में भी सख़्त हैं, जो सख़्त हैं, वो समृद्ध हैं। क्यों हतप्रभ है, किसी समृद्ध से, तेरे भी हस्त हैं, चला इन्हें शस्त्र से! तेरे पास वक़्त है, तेरे पास शस्त्र हैं, फ़िर क्यों तू स्तब्ध है, यूं कष्ट में?
क्यों निर्वस्त्र है अगर वस्त्र हैं, क्यों चल रहा ये नग्न भेष, अगर निर्वस्त्र ज्यादा सभ्य है, तो मत कहो कि मानव है विशेष। कहो जीव सारे सभ्य हैं, वो सब भी तो निर्वस्त्र हैं| सब निर्वस्त्र ही समृद्ध थे, तो कोई लाया ही क्यों ये वस्त्र है। अब ये वस्त्र हैं तो बढ़ा कष्ट है, कोई सभ्य है तो कोई निर्वस्त्र है।
कुछ कटु सत्य हैं, जो कहीं लुप्त हैं, सही वक्तव्य हैं जो अभी गुप्त हैं। ना कुछ लुप्त ह…