Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2018

आओ बैठो थोड़ी देर

 बैठो कुछ देर अकेले आख़िर कब तक भागोगे ऐसे ही, यात्रा कभी समाप्त होगी नहीं, तुम्हें ही रुक कर आराम करना होगा। जब इतनी दूर चल लिए तो अब आओ बैठो थोड़ी देर, ये गठरी जो तुमने बेवजह लादी हुई है कंधे पर उतार के रख दो किसी किनारे पर, कब तक स्वयं को बोझ से दबाते रहोगे, थोड़ा देर ठहरो देखो क्या भरा है इस गठरी में, कहीं तुम कंकड़ पत्थर तो भर कर नहीं घूम रहे हैं, अरे पागल ये तो पड़े ही हुए हैं सब जगह तुम क्यों इन्हें लाद कर फिर रहे हो। सब संसार की फिक्र तुम ही लिए बैठे हो, कभी थोड़ी देर खुद का हाल चाल भी तो पूछो। क्या पता तुम्हें तुम्हारे बारे में फिक्र करने की सबसे ज्यादा जरूरत हो। तुम सुन कहाँ रहे हो अपनी, तुम चले आ रहे हो सबके अनुसार सबके प्रभाव में सबको देखकर। कभी देखो खुद को वो चाहता है कि विश्राम हो,  वो नहीं चाहता कि तुम कठिन बन जाओ, वो चाहता है कि सब काम सरलता से निपट जायें तो बोझ हल्का रहेगा। लेकिन तुम सुनते कहाँ हो? तुम तो अपनी विशेषता साबित करने में खप गए हो। किसे साबित करके दिखाना चाहते हो! क्या तुम जानते हो कि तुम भी हो इस दुनिया में? तुम्हारा भी वजूद है। अभी समय है आओ बैठो कुछ देर, बैठो ख

नीलकंठ

कैलाश के उच्चतम शिखर पर, अग्नि में तप वो कर रहा है, कौन है वो अद्भुत-अदृश्य, दिन-रात जिसे वो जप रहा है। विकराल सा वो विष पिये, शांत खुद को रख रहा है, तीव्र जटिल और जग विनाशी, काल मुख में भर रहा है। महादेव ही है सबका संरक्षक, सिद्ध इसे वो कर रहा है, अस्त-व्यस्त केश, त्रिनेत्र धारी, भीषण आपदा को वश में कर रहा है। #ShubhankarThinks

Thought of the day 10june

ये धूप दौड़ और गर्मी में शरीर पसीने से लथपथ, वक़्त इम्तिहान क्या लेगा, मैंने खुद चुना है ये अग्निपथ। #shubhankarthinks #goldenthought

व्यंग : दुनिया भरी हुई है गधों से

दुनिया भरी हुई है गधों से, कुछ अच्छे गधे, कुछ बुरे गधे! कुछ सच्चे गधे तो कुछ बेईमान। कुछ घोड़े की शक्ल में, तो कुछ कम अक्ल हैं। कुछ खच्चर बने हैं तो कुछ शेरों से तने हैं। कुछ समझदार हैं गधे तो कुछ जाहिल गँवार गधे। कुछ ज्यादा बोलते हैं तो कुछ बोलने से पहले तौलते हैं। कुछ गधों का जमाने में खौफ है तो कुछ गधे बड़े डरकोप हैं। कुछ गधे सबके काम बनाते हैं तो कुछ बस बोलने का खाते हैं। गधे ये गधे ही हैं इनमें कोई खच्चर-घोड़ा नहीं, इनके कंधों पर रखा हुआ वजन कोई थोड़ा नहीं। फिर भी ये शेरों जैसी डींगें हाँक लेते हैं, ख़ुद से फुर्सत नहीं फिर भी पड़ौस में झाँक लेते हैं। गर गधे के अंदर कोई लोमड़ जाग जाता, तो फिर इन्हें गधा नहीं इंसान कहा जाता। खैर गधे हैं ये गधे ही तो कहे जाएंगे, नाम रखने से शेर सिंह ये शेर नहीं बन जाएंगे। ये दुनिया भरी हुई है गधों से, कुछ अच्छे गधों से तो कुछ बुरे गधों से। #ShubhankarThinks