Skip to main content

हालात एक जैसे कभी ना रहे

 ख़्वाब हो सकते हैं कितने भी हसीन, ऐसा कभी होता नहीं है कि सब सही रहे।  दो चीजें अलग हैं तो वो अलग ही रहेंगी, हो भी कैसे सकता है कि तनातनी ना रहे। सब जद्दोजहद में कि खुशियां हो मेरे हिस्से, ग़म का साया मेरे इर्दगिर्द कहीं ना रहे। कभी रौनक हुई तो कभी लंबे सन्नाटे मगर हालात एक जैसे तो कभी ना रहे। सांस छोड़ने से मौत और सांस आए तो जिंदगी, ध्यान से देख लें अगर तो ये डर कभी ना रहे। कुदरत ने बनाए हैं दुनिया में अंधेरे उजाले, ताकि मनोरंजन में कभी कोई कमी ना रहे। ~ #ShubhankarThinks

एक पत्र : - प्यारे पापा

यह कविता सत्य घटना पर पूर्णतयः आधारित है, जिसमें मैंने ऐसे गंभीर मुद्दे के साथ न्याय करने का एक छोटा सा प्रयास किया है, इसीलिए आपसे निवेदन है की जरूर पढ़ें |




प्यारे पापा ,

मैं आपकी लाड़ली बेटी,



जिसकी फ़िज़ूल की बातें आप बड़े चाव से सुना करते थे,



मगर अब तो काम की बातें सुनने के लिए भी



आपके कान इजाजत नहीं देते शायद!



 

खैर ,मैं यह पत्र तंज कसने के लिए नहीं लिख रही,



किसी को नीचा दिखाने के लिए नहींं लिख रही|



आपको याद होगा ना जब आपने ,



मेरा रिश्ता तय कर दिया था मेरा किसी के साथ,



उस उम्र में जब स्कूल का रास्ता तय कर पाना भी मेरे लिए मुश्किल था|



 

10 साल की थी तब मैं और 



स्कूल पूरे 5 किलोमीटर दूर था|



मैंने तब भी कुछ कहा नहीं था,



क्योंकि मुझे भी नहीं पता था यह सब क्या है?



खैर उस बात को अब 7-8 साल हो चुके|



 

समय बदला और समय के साथ मुझे एक बात समझ में आई है,



वो लड़का मेरे लिए सही नहीं है,



यह रट मैंने बहुत दिनों से लगाई है|



शायद इसी वजह से आप अब सुनते नहीं मुझे,



मगर आज यह बात तो मैं आपको सुनाकर रहूँगी|



 

वो आपकी मौजूदगी तो कभी गैरमौजूदगी में घर आ जाता है,



मम्मी और आप दोनों को मीठी बातों से रिझाता है!



मगर अकेले में मुझे जब कभी ले जाता है,



तब उसका एक अलग रूप निकल आता है|



IMG Credit



वो कभी मेरी कमर पर हाथ फेरता है,



कभी जिस्म को सहलाता है!



मना करूँ अगर तो आँखें मुझे वो दिखलाता है,



शिकायत करूँ अगर तो आपका डर मुझे बतलाता है|



 

आपको फिक्र है समाज की लोक लाज की,



यही कहते हैं ना आप!



आप हमेशा कहते हो कि दुपट्टा डालके चलो,



जिस्म के सभी हिस्सों ढंककर जाओ बाहर!



तब आपकी लाज लज्जा कहाँ चली जाती है,



जब आपके घर मे ही मेरी अस्मत रौंदी जाती है|



 

आप बताओ इसमें मेरा क्या क़सूर है?



आपको अपनी बेटी से ज्यादा समाज की फिक्र है,



बतलाइये क्या आपकी इज्जत में मेरा कोई जिक्र है?



मगर मैं अब 10 साल की नहीं हूँ,



अब और सहने वाली नहीं हूँ|








बहुत हुआ आपका गुस्सा और 



माँ का यह कहना कि उनका दिल टूट जायेगा ,



अगर मैंने पुलिस से शिकायत की तो अनर्थ हो जायेगा|



 

हो जाने  दो इस बार जग हँसाई ,



देते रहना कितना भी इज्जत की दुहाई!



माना मुझे जन्म आपने दिया है,



मेरा लालन पालन आपने किया है|



 

मगर इस जिस्म पर कुछ हक मेरा भी है,



भविष्य के निर्णय लेने का हक मेरा भी है|



चाहे तुम मेरी आत्मा भी तुम लेना नोच,



मगर वो दुष्ट नहीं देगा अब एक भी खरोंच!



 

उसका अब मैं वो हश्र कराऊंगी,



खाल उसकी थाने में उधेड़वाऊंगी|



बेशक आप बेदखल कर देना अब घर से,



लौट कर भीख मांगने वापस नहीं आऊंगी|



 

अब उड़ना है मुझे स्वछंद गगन में,



ख्वाबों को जियूँगी हो मस्त मगन मैं!






#ShubhankarThinks

All rights reserved.



Comments

  1. Behad satik sabdo ke prayog se aapne ek bebas ladki ke dard ko kalam se juban di hai
    Hattsoff

    ReplyDelete
  2. Thank you so much harshita
    Your words mean a lot to me

    ReplyDelete
  3. Apne kalam men aag bharkar aise likha jaise aag ab bhi mere dil men padhkar jal rahi hai.....sach ek ladki par kaisa bitta hoga jab koyee bahrupiya apna rang badlta hoga .....aur jab uske khelne ki umar thi us samay usse rishta juda ho......sach beti baap maa ko nahi bolegi to kisko.....aur kaisa wah baap hota hai jise apni beti kaa dard dikhaayee nahi deta sunna to dur ki baat hai.....bahut sarahniye post.

    ReplyDelete

Post a Comment

Please express your views Here!

Popular posts from this blog

Scientific reasons behind Hindu Rituals

Hinduism is the world’s oldest living religion and there are thousands of customs & traditions. Most of us really don’t know what is the scientific reason behind them even we have no idea about it. 1- Blowing Shankha(Conch shell) - In Hinduism, According to our ancient scriptures that Puranas, the shank originated during the Churning of the ocean (Samudra Manthan) by the Deities and Shri Vishnu held it in the form of weapon. As per a holy verse which is regularly chanted during the puja ritual it is mentioned that by the command of Shri Vishnu the deities Moon, Sun and Varun are stationed at the base of the shank , the deity Prajapati on its surface and all the places of pilgrimage like Ganga and Saraswati in its front part. We blown Shankh a before starting any religious event even some of the people blown it every day during their regular prayer. According to science, the blowing of a conch shell enhances the positive psychological vibrations such as courag

प्रेम पत्र २(पत्र का जवाब)

जैसा आपने पिछले पत्र में पढा था कि प्रेमिका रूठकर व्यंगपूर्ण पत्र लिखती है और जब यह पत्र उसके प्रेमी को मिलता है तो वो अपनी प्रेमिका को मनाने और भरोसा दिलाने के मकसद से पत्र का प्रेमपूर्ण जवाब लिखता है मगर मस्तिष्क में चलते गणित के कारण कैसे उसके विचार पत्र के माध्यम से निकलते हैं पढ़िए - IMG source - http://i.huffpost.com/gen/1178281/images/o-LETTER-TO-EX-facebook.jpg प्रेमी  अपनी प्रेमिका से - प्रेमिका मेरी ओ प्राण प्यारी! तुम्हे एक पल हृदय से ना दूर किया है , तुम्हारा और मेरा संग तो रसायन विज्ञान में जल बनाने की प्रक्रिया है ! जैसे हाइड्रोजन नहीं छोड़ सकती ऑक्सीजन का संग, भगवान ने ऐसा रचा है ,हमारा प्रेम प्रसंग|     दुविधा सुनो मेरा क्या हाल हुआ है, पूरा समय गति के समीकरणों में उलझ गया है ! कभी बल लगाकर पढ़ाई की दिशा में बढ़ता हूँ, कभी तुम्हारे प्रेम की क्रिया प्रतिक्रिया से पीछे तुम्हारी दिशा में खींचता हूँ|   मेरे विचारों का पाई ग्राफ उलझ जाता है , ये Tan@  के मान की तरह कभी ऋणात्मक अनंत तो कभी धनात्मक अनंत तक जाता है ! मेरे ग्राफ रूपी जीवन में सारे मान अस्थिर हैं , मगर तुम्हर स्थान म

पथ भ्रष्ट हैं इसलिए कष्ट हैं

क्यों पस्त हैं, क्या कष्ट है? किस अंधेर का आसक्त है। क्यों पस्त है कुछ बोल तू, अगर कष्ट में तो बोल तू, क्यों लड़ रहा हूं खुद से ही, ज़ुबान है तेरी भी, खोल तू। क्यों भ्रष्ट हैं, वो मस्त हैं, वो निगल रहे हैं सारा देश! हम कष्ट में, पथ भ्रष्ट हैं, नहीं बच रहा है कुछ भी शेष। वो भ्रष्ट हैं क्योंकि हम कष्ट में, वो मस्त हैं क्योंकि ख़ुद हम भ्रष्ट हैं। जो सख़्त हैं वो लड़ रहे हैं, जो कष्ट में भी बढ़ रहे हैं! जो कष्ट में भी सख़्त हैं, जो सख़्त हैं, वो समृद्ध हैं। क्यों हतप्रभ है, किसी समृद्ध से, तेरे भी हस्त हैं, चला इन्हें शस्त्र से! तेरे पास वक़्त है, तेरे पास शस्त्र हैं, फ़िर क्यों तू स्तब्ध है, यूं कष्ट में? क्यों निर्वस्त्र है अगर वस्त्र हैं, क्यों चल रहा ये नग्न भेष, अगर निर्वस्त्र ज्यादा सभ्य है, तो मत कहो कि मानव है विशेष। कहो जीव सारे सभ्य हैं, वो सब भी तो निर्वस्त्र हैं| सब निर्वस्त्र ही समृद्ध थे, तो कोई लाया ही क्यों ये वस्त्र है। अब ये वस्त्र हैं तो बढ़ा कष्ट है, कोई सभ्य है तो कोई निर्वस्त्र है। कुछ कटु सत्य हैं,