Recent Posts

/*
*/

Latest Posts

Post Top Ad

Quote

जब आप जिंदगी के किसी मोड़ पर लगातार असफल हो रहे हो तो आपके पास दो रास्ते हैं-
पहला रास्ता यह है, कि आप यहीं रुक जाओ और आने वाली पीढ़ी को यहाँ रुकने के बहाने गिनाओ !
दूसरा यह है, कि आप लगातार प्रयास करते रहो और इतने आगे बढ़ जाओ और खुद किसी का प्रेरणास्रोत बन जाओ|

Popular Posts

Saturday, November 18, 2017

वो लड़की

वो लाड़ली है अपने माँ बाप की ,

मगर भाई की स्वतंत्रता के आगे ,

माँ- बाप की ममता उसके लिए फीकी पड़ जाती है!

वो जिद्दी है बचपन से ही मगर पराये घर में वो दूसरों को मनाती है,

उसे पसंद है, मनमानी करना मगर अब वो दूसरों के मन की बातों को निभाती है|

उसकी आदत है, अपने निर्णय स्वयं लेने की मगर अब वो किसी दूसरों के आदेशों को सिर-माथे बिठाती है|

कुछ गुण है उसमें औरों से खास ,

कभी बेटी, बहन , पत्नी तो कभी माँ का किरदार,

सब बखूबी निभाती है|

इतना त्याग करने के बावजूद भी उसकी अहमियत लोगों को समझ क्यों नहीं आती है ?


style="display:block; text-align:center;"
data-ad-layout="in-article"
data-ad-format="fluid"
data-ad-client="ca-pub-5231674881305671"
data-ad-slot="8314948495">




#shubhankarthinks

10 comments:

  1. bahut khub…..kabhi es beti ko bharpur swatantra thi…..var chunne kaa apni marji jeene kaa magar samay ki raftaar na jaane kab uski raftaar par break lagaa diyaa…….Ishwar ki sabse anmol kriti ko janjeeron men jakad diyaa…..pataa hi nahi chala ….
    ab usi ko log riwaaj bana baithe hain
    apne saano saukat kaa maano samaan bana baithe hain
    koshish to karti hai taaron ko chhu lene ki magar,
    apne hi har baar pankh kutar dete hain.

    ReplyDelete
  2. Apne to jahardast likha Hai maza a Gya pdhkr
    Dhanyavaad apka ki apne vichar prakat kiye

    ReplyDelete
  3. Oh God! Yeh toh meri kahan jaan padti hai. Khub likha hai Shubhankar.

    ReplyDelete
  4. are wah dil khush hua yah jankar ki ap ise relate kr payi , thanks di

    ReplyDelete
  5. Bahut sundar ...
    Aapne in chnd pktiyon me Ek ldki ke sare rishton sabhi paksho ka bakhubi chitran kiya hai...Aur uske manobhavon ki manoram vivechna ki hai.

    ReplyDelete
  6. apke kalam se protshahan ke liye nikle ye madhu mishrit shabd mujhe adhik likhne ke liye prerit krte hain , kuch technical karan ke chlte meri puri post ab mobile app mei show ni ho pati kshma chahunga mgr dhanyvaad apka ki apne alag se kimti samay nikalkr pdhne ka prayas kia aur apni pratikriya di

    ReplyDelete
  7. हाँ मैं हर बार पढ़ कर प्रतिक्रिया देना चाहती हूँ ।
    मैं आपसे कहने वाली थी कमेंट्स देने की प्रकिया कुछ डिफिकल्ट्स सी हो गयी है।
    Plz इसे ठीक करने का प्रयास कीजियेगा।

    ReplyDelete
  8. haan mei kshma chahunga jbse site dusri bnayi hai ye mobile theme ke sath support nhi hoti apko iski link dusri jgh kholkr hi comment krni hogi , mujhe khud ab lg rha hai ki site nhi bnata to achha rhta

    ReplyDelete

Post Top Ad