Skip to main content

मेरी माँ

mother-and-child2

जन्म वगरह का तो कुछ याद नहीं कुछ ,

आपने भी बाकी सबकी तरह मेरे लिए दर्द सहा होगा !

हाँ उन दिनों को याद करके, मुझे आज भी हंसी आती है! जब मुझे जबरदस्ती पकड़कर दाल पिलाई जाती थी |

जो मुझे तब बिल्कुल पसंद नहीं थी |

शब्द ज्ञान , मात्रा , लेख सब कुछ सिखाया था,

अगर गलती करो तो डाँट भी लगाई जाती थी !

और जब मेरा दाखिला हुआ तो

रोज शाम को स्कूल से नाम कटाने की जिद्द करना ,

और फिर सुबह आपका मुझे तैयार करके फिर से स्कूल भेज देना !

ये क्रम लगातार चला!
मुझे आज भी याद है |

उसी का परिणाम है कि आज मैं कुछ लिखने लायक हुआ हूँ !

उस डाँट, जबरदस्ती और लगातार सुधारने का महत्व अब मैं भी समझ गया हूँ |

मेरी छोटी छोटी सफलता पर मुझसे भी ज्यादा खुश होना ,

हरेक बार मेरा आपकी बातों से प्रेरित होना!

और जब मेरी परीक्षाएं चलती थी रात रात को मुझसे भी बाद में सोना ,

और फिर मुझसे भी जल्दी जाग कर मेरे लिए नाश्ता बनाने के लिए खड़े होना|
ये त्याग आपने बिना शिकायत करे किया !

मेरी असफलताओं पर कभी प्रश्न नहीं किया , 
पुराना भुलाकर,आगे अच्छा करने के लिए प्रोत्साहित किया !

बाकी सबके माँ बाप की तरह उम्मीदों का बोझ नहीं रखा कभी ,

मेरी असफलता के बावजूद भी आपके चेहरे पर क्रोध का भाव नहीं दिखा कभी !

मेरे जरा से बीमार होने पर 

आप आज भी व्याकुल हो जाती हो ,

खुद की छोटी बड़ी परेशानियों को बड़ी चालाकी से छुपाती हो!

मेरे हर निर्णय , हर एक कदम पर साथ देना ,

कोई भी नया कार्य करने से पहले और बढ़ावा देना !

ये सब आदतों में शुमार है आपके |
अभी आपके लिए कुछ कर नहीं पाया हूँ,

तो इसलिए झूठे वंचनो को में क्या कहूंगा !

हाँ भविष्य में ऐसा कुछ कर पाऊँ ,

ऐसी अभिलाषाएं में खुद से रखूंगा |


  •  शिवा









©Confused Thoughts

please check out our channel and listen this poem in my voice - https://youtu.be/BE8aWHd1fN4

 

Happy Mother's day

Comments

  1. You expressed your emotions very nicely.

    ReplyDelete
  2. Kya baat...khubsurti se likha gaya Maa ka khubsurat chitran....nice

    ReplyDelete
  3. स्वागत आपका।

    ReplyDelete
  4. सुंदर बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  5. Thank you so much Veronica g 🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  6. 🙌🙌okay next time yaad rkhunga

    ReplyDelete
  7. Expressed beautifully. Loved it😊👏

    ReplyDelete
  8. Bahut hi khubsurati se apni bhawanao ko vyakat kiya h , sach me ise sunkar aapki maa ko bahut khushi mili hogi .

    ReplyDelete
  9. Bhut dhanyavaad apka
    Samta g 🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  10. Kahan gayab ho AP
    Kafi Dino Baad darshan hue 😁

    ReplyDelete
  11. Well, I was busy with my exam. Just finished them. And now I'm waiting for THE RESULT.

    ReplyDelete
  12. Oh nice !you mean 12th boards ??
    Best of luck for your result

    ReplyDelete
  13. No I mean NEET.
    But sach mein aab muze bhi lagta hai ki sab moh maya hai. I must move to Himalaya...!!! Ha Ha...

    ReplyDelete
  14. Bhut achhe !
    Positive rho kamyabi milegi bachha 😀
    Haan abhi holidays Hai to u should move to Himalaya , CLG m ane k Baad holidays m Ghar jau ya fir ghumne in baton m confuse ho jaoge

    ReplyDelete
  15. Wow!…. bhaut deep tha…..full of true emotions !

    ReplyDelete
  16. बड़ी खूबसुरती और स्वभाविकता से आपने अपनी माँ के संस्मरण लिखे है.

    ReplyDelete
  17. Haan ye phli bar likha Hai vrna aaj tk kbhi do line BHI Ni likhi unke liye

    ReplyDelete
  18. बेहद खूबसूरती से प्रस्तुत किया शुभु आपने ..👌👌👌

    ReplyDelete
  19. Oh God, beautiful! What did your mother say when she saw this? She must have been so proud!

    ReplyDelete
  20. Haan unko audio sunne ko Mila tha
    Maine ye YouTube channel p upload ki thi !😁😁😁
    Thank you so much di

    ReplyDelete
  21. Ohhh! Fabulous. What did she say?

    ReplyDelete
  22. Thanks bola
    😀😀
    Actually Maine sirf btaya tha ki aisi Kavita Maine channel p publish ki Hai then unhone khud dekhi hogi
    Aur m yha hostel m hu to mujhe reaction Ni pta

    ReplyDelete
  23. Oh ho... Jab next time miloge tab poochna. I'm sure woh bahut khush hui hongi

    ReplyDelete
  24. Actually ye first time Tha jb Maine aisa kuch likha tha vrna 2 Saal phle tk wish bhi Ni kr pata Tha hesitation ki vjh SE

    ReplyDelete
  25. कोई बात नहीं. Theres always a first time for everything 😊😊😊 अब लिखते रहना. देखना मेरे अलावा और भी कई लोग appreciate करेंगे 😊

    ReplyDelete
  26. Haan vo YouTube wali Kavita ko kafi dosto ne appreciate Kia
    Vrna blog to Mera koi friend pdhta nhi 😁

    ReplyDelete
  27. 😂 😂 😂 😂 😂. Friends aise he hote hain. Mere bhi mera blog nahi padhte. Na yahan na FB per. 🤣

    ReplyDelete
  28. FB p Mera alag scene Hai
    Mere photo media SE jyada public ko reaction m interest hai
    Mai almost sbhi mauko p reactive post dalta hu

    ReplyDelete
  29. Ohhh. Send me a link. I'll follow you.

    ReplyDelete
  30. shubhankarsharma940
    Search KRNa ye fb I'd h

    ReplyDelete
  31. आपने माँ के ऊपर बहुत खूबसूरत पंक्तिया लिखी है

    ReplyDelete
  32. Bahut sundar likha h apne, mai hai to ghar jannat hai.

    ReplyDelete
  33. sorry spelling mistake, maa hai to jannat h

    ReplyDelete
  34. Dhanyavaad apka !
    Apne Meri Kavita pdhi

    ReplyDelete
  35. Bahut acha likha h apne maa k upar. Ese hi likhte rhe

    ReplyDelete
  36. Maine ISS Kavita m koi bhi banavat nhi ki ye Sirf Ek abhivyakti thi apni maa k liye 😁
    Mujhe bhut Khushi Hoti Hai jb log is Kavita ko pdhte hain

    ReplyDelete
  37. Jo bhi apne mann ki baat likhi h bahut sundar sabdo mai bataya h

    ReplyDelete
  38. Ye AP sabhi logon ka sneh Hai !
    Baki Mei to sirf likhta hu , achhai AP sabhi log nikalte ho 🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  39. माँ के बारे में लिखी आपकी ये रचना माँ के जैसा ही पावन है....love u ममा....:)

    ReplyDelete
  40. Achha LGA ki apne ye kavita pdhi aur isko khud k sath relate bhi Kia
    Dhanyavaad

    ReplyDelete
  41. माँ खुदा की बनाई सबसे प्यारी नेमत है....:)

    ReplyDelete
  42. Haan Ji bilkul Sahi bola apne !
    Maa SE hi SB kuch Hai

    ReplyDelete

Post a Comment

Please express your views Here!

Popular posts from this blog

Scientific reasons behind Hindu Rituals

Hinduism is the world’s oldest living religion and there are thousands of customs & traditions. Most of us really don’t know what is the scientific reason behind them even we have no idea about it.

1- Blowing Shankha(Conch shell) - In Hinduism, According to our ancient scriptures that Puranas, the shank originated during the Churning of the ocean (Samudra Manthan) by the Deities and Shri Vishnu held it in the form of weapon. As per a holy verse which is regularly chanted during the puja ritual it is mentioned that by the command of Shri Vishnu the deities Moon, Sun and Varun are stationed at the base of the shank, the deity Prajapati on its surface and all the places of pilgrimage like Ganga and Saraswati in its front part.

We blownShankha before starting any religious event even some of the people blown it every day during their regular prayer.

According to science, the blowing of a conch shell enhances the positive psychological vibrations such as courage, determination hope, op…

प्रेम पत्र २(पत्र का जवाब)

जैसा आपने पिछले पत्र में पढा था कि प्रेमिका रूठकर व्यंगपूर्ण पत्र लिखती है और जब यह पत्र उसके प्रेमी को मिलता है तो वो अपनी प्रेमिका को मनाने और भरोसा दिलाने के मकसद से पत्र का प्रेमपूर्ण जवाब लिखता है मगर मस्तिष्क में चलते गणित के कारण कैसे उसके विचार पत्र के माध्यम से निकलते हैं पढ़िए -



IMG source - http://i.huffpost.com/gen/1178281/images/o-LETTER-TO-EX-facebook.jpg








प्रेमी  अपनी प्रेमिका से -

प्रेमिका मेरी ओ प्राण प्यारी!

तुम्हे एक पल हृदय से ना दूर किया है ,

तुम्हारा और मेरा संग तो रसायन विज्ञान में जल बनाने की प्रक्रिया है !

जैसे हाइड्रोजन नहीं छोड़ सकती ऑक्सीजन का संग,

भगवान ने ऐसा रचा है ,हमारा प्रेम प्रसंग|





दुविधा सुनो मेरा क्या हाल हुआ है,

पूरा समय गति के समीकरणों में उलझ गया है !

कभी बल लगाकर पढ़ाई की दिशा में बढ़ता हूँ,

कभी तुम्हारे प्रेम की क्रिया प्रतिक्रिया से पीछे तुम्हारी दिशा में खींचता हूँ|



मेरे विचारों का पाई ग्राफ उलझ जाता है ,

ये Tan@  के मान की तरह कभी ऋणात्मक अनंत तो कभी धनात्मक अनंत तक जाता है !

मेरे ग्राफ रूपी जीवन में सारे मान अस्थिर हैं ,

मगर तुम्हर स्थान मेरे हृदय में पाई(π) …

पथ भ्रष्ट हैं इसलिए कष्ट हैं

क्यों पस्त हैं, क्या कष्ट है? किस अंधेर का आसक्त है। क्यों पस्त है कुछ बोल तू, अगर कष्ट में तो बोल तू, क्यों लड़ रहा हूं खुद से ही, ज़ुबान है तेरी भी, खोल तू।
क्यों भ्रष्ट हैं, वो मस्त हैं, वो निगल रहे हैं सारा देश! हम कष्ट में, पथ भ्रष्ट हैं, नहीं बच रहा है कुछ भी शेष। वो भ्रष्ट हैं क्योंकि हम कष्ट में, वो मस्त हैं क्योंकि ख़ुद हम भ्रष्ट हैं।
जो सख़्त हैं वो लड़ रहे हैं, जो कष्ट में भी बढ़ रहे हैं! जो कष्ट में भी सख़्त हैं, जो सख़्त हैं, वो समृद्ध हैं। क्यों हतप्रभ है, किसी समृद्ध से, तेरे भी हस्त हैं, चला इन्हें शस्त्र से! तेरे पास वक़्त है, तेरे पास शस्त्र हैं, फ़िर क्यों तू स्तब्ध है, यूं कष्ट में?
क्यों निर्वस्त्र है अगर वस्त्र हैं, क्यों चल रहा ये नग्न भेष, अगर निर्वस्त्र ज्यादा सभ्य है, तो मत कहो कि मानव है विशेष। कहो जीव सारे सभ्य हैं, वो सब भी तो निर्वस्त्र हैं| सब निर्वस्त्र ही समृद्ध थे, तो कोई लाया ही क्यों ये वस्त्र है। अब ये वस्त्र हैं तो बढ़ा कष्ट है, कोई सभ्य है तो कोई निर्वस्त्र है।
कुछ कटु सत्य हैं, जो कहीं लुप्त हैं, सही वक्तव्य हैं जो अभी गुप्त हैं। ना कुछ लुप्त ह…