Recent Posts

/*
*/

Latest Posts

Post Top Ad

Quote

जब आप जिंदगी के किसी मोड़ पर लगातार असफल हो रहे हो तो आपके पास दो रास्ते हैं-
पहला रास्ता यह है, कि आप यहीं रुक जाओ और आने वाली पीढ़ी को यहाँ रुकने के बहाने गिनाओ !
दूसरा यह है, कि आप लगातार प्रयास करते रहो और इतने आगे बढ़ जाओ और खुद किसी का प्रेरणास्रोत बन जाओ|

Wednesday, April 12, 2017

आत्मविश्वास

बहुत बार जीवन में लगातार असफलताएं मिलती हैं और हम इतने हतोत्साहित हो जाते हैं कि समझ नहीं पाते आखिर अब करना क्या है !

नकारात्मकता हम पर हावी होने लगती है ऐसे में किसी की कोई बात समझ नहीं आती फिर भी हमारे पास खुद को उत्साहित करने का मौका होता है जिससे हम काफी हद तक नियंत्रण पा सकते हैं वो है आत्मविश्वास !

कुछ ऐसे ही उद्देश्य से मैंने ये कविता लिखी है इसलिए शीर्षक देखकर भ्रमित नहीं होना----

निराशा , हताशा कृष्ण मेघ के समान 

परिधि में आच्छादित करेंगी,

उपहास तिरस्कार और लोक लाज सब व्यर्थ में 

उलझाकर विचारों में कल्पित   करेंगी

 मगर वीर! तुम बढ़े चलो 

इतिहास नया तुम गढ़े चलो !

ये समस्त विश्व एक जंजाल है 

यहां दानव शक्तियां विकराल हैं 

क्योंकि घोर कलियुग का ये काल है !

वीर!तुम निष्ठावान बनो, तुम धैर्यवान बनो 

वीर !तुम सत्यवादी बनो , तुम आशावादी बनो !
ये समस्त मनुज कंगाल हैं 

अज्ञान के बेताल हैं मगर 

तुमको कोई भ्रमित करे ,

भला क्या किसी की मजाल है?

मार्ग में बाधा सहस्रों खड़ी हैं 

जाने कितनी कंटक बबूल पड़ी हैं ,

हृदय को बना लो 

अभी ना जाने कितनी विफलताएं प्रतीक्षा में खड़ी हैं !

वीर ! तुम भयभीत मत हो 

विपदा से अधीर मत हो ,

तुम दृढ़ और निर्भीक बनो 

रण योद्धा जैसे अजीत बनो !
तुम ज्ञान का कृपाण लो 

इसे परिश्रम से तुम धार दो ,

असफलता रूपी विशाल वृक्ष का

जड़ तना सब काट दो !
वीर !तुम रुको नहीं ,वीर तुम झुको नहीं !
राष्ट्र के नव चिराग हो तुम

तुम्हारे हस्तों में इसकी बागडोर है ,

एक क्षण भी ना भ्रमित रहो 

नकारात्मकता चारों ओर है !

तुम गंगा की तरह बनो 

सतत् शीतल और निर्मल रहो,

राष्ट्र हित के कार्यों में सदा चलायमान रहो 
वीर! तुम बढ़े चलो 

सुमार्ग पर बढ़े चलो !
© Confused Thoughts

35 comments:

  1. Apka comment pakar dhanya ho gya 😋
    Thank you

    ReplyDelete
  2. वीर! तुम बढ़े चलो ....वाह-----अतिसुन्दर

    ReplyDelete
  3. Apka comment mere liye behtreen motivation hoga
    Bhut dhanyavaad

    ReplyDelete
  4. खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  5. Vir tum badhe chalo! Vahi yaad aa raha hai yeh padhkar.... very very well done. Bhai Shubhankar, I demand that the next time you contribute a guest post, it should be one of your hindi poems. I just LOVE them!

    Btw, your guest post is up on my blog now. Please see and thanks again :) Sorry about the delay. The internet at my place was down for quite sometime today.

    ReplyDelete
  6. Thank you so much di !
    Haan bilkul Jo BHI Hindi poem apko sbse achi lge , AP use as a guest post le skti ho bcz mere liye sari poems equal h I can't decide which one is best 😉
    Jankar bhut axhha LGA ki apko Meri Hindi poems bhut pasand Hai , ye compliment mere liye valuable Hai 😉
    Thanks again

    ReplyDelete
  7. You're most welcome.... Theek hai phir, tay raha. Next time a slot opens and I need someone, Im gonna take your hindi poema

    ReplyDelete
  8. Of course ap publish kr Dena 😋
    Mujhe b acha lgta h JB koi as a guest post Meri creations ko publish kre 😉
    Thanks again

    ReplyDelete
  9. I has shared that post link on FB
    😊
    You won't believe , m kbse wait m Tha k vo article publish ho kuki vo maine pure emotions k sath likha tha 😂

    ReplyDelete
  10. Good! i hope its generated as much entusiasm in your readers as it did in mine :)

    ReplyDelete
  11. जीवन की असफलताएं हमें मजबूत बनाती है. इतने हतोत्साहित नही होना चहिये.

    ReplyDelete
  12. Such a wonderful description! Padh ke acha laga, lots of good vibes👏👏👍Well done!❤

    ReplyDelete
  13. Meri chhoti si rachna pdhne ke liye dhanyavaad

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन कविता ...

    ReplyDelete
  15. अपने औषिधि समान शब्दों से मुझे अधिक लेखन के लिए प्रेरित करने के लिए धन्यवाद मैम

    ReplyDelete
  16. आज ऐसी ही पोस्ट की आवश्यकता है जो जनजागरण करे

    ReplyDelete
  17. हार कर भी यत्न जो करता बार-बार प्रयत्न जो करता....कब रुकती है उसकी सफलता....
    बहुत अच्छे......👌

    ReplyDelete
  18. Bilkul Sahi baat Hai apne !
    Isi moolbhav ko lekar ye Kavita likhi gyi thi

    ReplyDelete

Post Top Ad