Skip to main content

State of joyfulness

You become happy when outside circumstances come in your favor,You become joyful when none of the outside circumstances affect you anymore.~ #ShubhankarThinks#joyfull #happy #quote

बोधकथा 4- बालक ध्रुव

आज बोधकथा के क्रम में आज मैं फिर से एक बोधकथा लेकर आया हूँ जो मैंने पहले की भांति स्कूल में सुनी थी -
पुरातन काल की बात है किसी राज्य में एक राजा रहता था , राजा का नाम उत्तानपाद था और राजा की दो पत्नियां थी पहली पत्नी का नाम सुनिती था और दूसरी का नाम सुरुचि था !

सुरुचि की संतान का नाम उत्तम था और सुनिती के पुत्र का नाम ध्रुव था उसकी उम्र 5 वर्ष थी , राजा को दोनों रानियों में से सुरुचि अधिक प्रिय थी और सुनिती को कोई विशेष महत्व नहीं दिया जाता था !

एक बार की बात है ध्रुव अपने पिता की गोद में खेल रहा था , तभी सुरुचि उसे खेलता देख लेती है और ईर्ष्या के कारण वो ध्रुव को गोद से उतारकर उत्तम को बैठा देती है , अब छोटा बच्चा ध्रुव शिकायत करता है कि मुझे क्यों उतार दिया आपने ?

तो सुरुचि तिरस्कार से कहती है "तुम राजा की गोद में तो बैठ नहीं सकते हां भगवान के पास जाओ सिर्फ वो ही तुम्हे अपनी गोद में बैठा सकते हैं "

ध्रुव रोता हुआ सीधा अपनी माँ सुनिती के पास जाता है

सुनीति उसे दुलारती है समझाती है कि बेटा जिद्द नहीं करते जब उत्तम वहाँ नहीं रहेगा तब तुम बैठ जाना मगर ध्रुव कहाँ मानने वाला था वो लगातार पूछ रहा था मैं क्यों नहीं बैठ सकता आखिर वो मेरे भी तो पिता हैं !

सुनीति बेचारी निःशब्द हो जाती है और बच्चे के इस प्रश्न का उत्तर नहीं दे पाती ,

मगर ध्रुव बाल बुद्धि था उसे अभी भी अपनी दूसरी माँ सुरुचि की बातें याद आ रही थी तब उसे याद आया कि कोई भगवान नाम का प्राणी है जो मुझे गोद में बैठा सकता है अगर मैं उनसे विनती करूँ तो बस यह बात उसके हृदय में घर कर गयी थी और रात को सबके सो जाने के बाद वो चुपचाप निकल पड़ा जंगल की ओर भगवान को ढूंढ़ने अब बच्चे की ऐसी हठ देख नारद ने उसकी मदद करने की तरकीब सोची और साधारण मनुष्य का रूप धारण कर उसके पास प्रकट होकर बोले  "पुत्र तुम रात्रि के समय घनघोर जंगल में क्या कर रहे हो अगर कोई जंगली जीव आ गया तो तुम्हारा भक्षण कर लेगा !"

ध्रुव निडरता से कहता है "मुझे भगवान के पास जाना है और माँ ने बताया है वो मुझे गोद में बैठाएंगे बस उन्हें ही ढूंढ रहा हूँ पता नहीं कहाँ रहते हैं वो क्या आप उनका नाम पता बता सकते हैं ?"
बालक की ऐसी हठ देख नारद भी अचंभित हो जाते हैं और बोलते हैं "पुत्र उनका नाम विष्णु है और वो खुद तुम्हारे पास आ जाएंगे अगर तुम उन्हें सच्चे मन से तप करके बुलाओगे , तुम सिर्फ "ओम नमो भगवते वासुदेवाय " मंत्र का निरंतर उच्चारण करना जब तक वो खुद तुम्हारे सामने प्रकट ना हो जाएं !"

इतना कहकर नारद अदृश्य हो जाते हैं

वो बालक वहीं खड़ा होकर हाथ जोड़कर मंत्र का उच्चारण प्रारम्भ कर देता है , तप करते करते उसे रात दिन , धूप बरसात किसी भी बात की सुध नहीं रहती और बिना कुछ खाये पिये ऐसे ही छः मास तक घोर तपस्या करता है आखिरकार विष्णु भगवान उसकी तपस्या से प्रसन्न होते हैं और उसके सामने प्रकट होकर बोलते हैं "आंखें खोलो पुत्र !तुमने इतनी कम अवस्था में कठोर तप करके मुझे प्रसन्न कर दिया तुम अब मुझसे कोई भी वर मांग सकते हो ?"

ध्रुव आंखें खोलता है और भगवान को प्रणाम करते हुए बोलता है "भगवान मुझे हमेशा के लिए आपकी गोद में बैठना है मुझे अपने साथ ले चलो (बाल अज्ञानता के कारण उसे मोक्ष शब्द का ज्ञान नहीं था )

भगवान प्रसन्नता पूर्वक उसे अपनी गोद में बैठकर विष्णुलोक में खिलाते हैं और मोक्ष के बाद पृथ्वी लोक में सर्वोच्च स्थान देने का वरदान भी दे देते हैं !

मोक्ष प्राप्ति के बाद ध्रुव को एक तारे के रूप में सर्वोच्च स्थान प्राप्त हुआ जिसे हम आज भी ध्रुव तारे के रूप में जानते हैं और उसके उसे 7 ऋषि मुनि तारे के रूप में घेरे हुए हमेशा उपस्थित रहते हैं !

शिक्षा - सच्चे मन और पूरी निष्ठा लगन के साथ किसी कार्य को अगर कोई करे तो कोई भी कार्य इस पृथ्वी पर असंभव नहीं है !



बोधकथा guest post invitation


 बोधकथा -1


बोधकथा -2


बोधकथा 3- तुलसीदास

अगर आपके पास भी ऐसी कोई बोधकथा है तो आपका स्वागत है मैं अगले रविवार को आपकी कथा अपने ब्लॉग पर गेस्ट पोस्ट की तरह प्रकाशित करूँगा 

अधिक जानकारी के लिए 

You can send me a email - shubhankarsharma428@gmail.com

Comments

  1. बहुत अच्छा ------बचपन में ये कथा सूना करते थे परंतु माफ़ करना भाई ------जहां तक हमें ज्ञात है ध्रुव अपने माँ सुनीति के कहने पर भगवान् को पुकारने लगा--- न की सौतेली माँ के कहने पर-------वैसे सही कहा जो संतान अपनी माँ बाप की बातों का अनुशरण कर मेहनत करते है उन्हें भगवान् तक मिल जाते हैं.......बहुत अच्छा।

    ReplyDelete
  2. आपका बोध कथा सीरिज़ बड़ा अच्छा लगता है. ऐसे ही लिखते रहिये. मैंने नचिकेता पर कविता लिखी थी. आप चाहे तो उसकी कहानी भी लिख सकते है.

    ReplyDelete
  3. Sir apne bhut achi baten likhi h
    AB apko to PTA h story tellers alag alag way m story sunate hain mujhe aisa sunne ko Mila
    Mgr Saar sabhi ka ek HOTA h
    Jisme bhut acha lesson chupa HOTA h bss usi uddeshya SE mene ye likha tha
    Post pdhne aur vichar vyakt krne me liye dhanyavaad

    ReplyDelete
  4. Dhanyavaad Meri bodhkatha pdhne k liye
    Mere liye bdi khushi ki baat hogi AGR AP ye kahani mere ISS bodhkatha series k liye as a guest post dengi
    Mera phle plan Tha ki sari guest posts hi rhe ISS series m mgr koi b guest post na Milne ki vjh SE mene apni kathayen start ki thi
    Apni raay jrur dena

    ReplyDelete
  5. पोस्ट एवं उद्देश्य आपका कत्तई गलत नहीं है------पढ़कर बहुत ही अच्छा लगा-----हम दोनों एक दूसरे को और बेहतर बनाने का प्रयास करें ----धन्यवाद।

    ReplyDelete
  6. गेस्ट पोस्ट के सम्मान व के इंविटेशन के लिए बहुत शुक्रिया। आपने देखा होगा मैं तो ज्यादा कविताएं ही लिखती हूं । कहानी अभी तुरंत भेजने की स्थिति में नहीं हूं , समय अभाव के कारण। आशा है आप अन्यथा नहीं लेंगे। अपनी बोधकथा लिखना ऐसे ही जारी रखें भूली बिसरी कहानियों को पढ़ना अच्छा लगता है।
    अगर चाहें तब मेरी कविता इस लिंक पर देख सकते हैं, मैं अपने कविता के लिंक भेज रही हूं -
    https://rekhasahay.wordpress.com/2016/09/11/नचिकेता-और-यम-मोक्ष-संवाद/

    ReplyDelete
  7. Mujhe apki Kavita publish KRNE m koi problem Ni h Aur time Abhi pura week pda hua Hai next Sunday ko post krni h agli bodhkatha
    AP agr chahe ho ek bar ISS bAt par vichar kr skti Hai !
    Praroop yhi rhega guest post ka bs starting m AP APNA chota SA intro likh Dena blog k sath
    Aur agr AP chahe ho mujhe vo praroop send kr skti Hai shubhankarsharma428@gmail.com
    Vichaar rkhne k liye dhanyavaad

    ReplyDelete
  8. Apke vichar wakai bhut achhe Hai
    Asha krta hu age BHI blog k jariye mulakat Hoti rhegi comments Mai
    Dhanyavaad sir

    ReplyDelete
  9. Shubhankr abhi kuch samay mai kasfi vyast hun. Jab bhi time milegaa mai likhne ki koshish karungi.

    ReplyDelete
  10. Dhanyavaad mam
    Koi baat nahi AP JB BHI kabhi likhne ka MN kre AP bhej skti Hai
    Hmesha swagat Hai kyoki ye bodhkatha series chlti rhegi AISE hi
    Kabhi BHI bhej skte hain AP
    Dhanyavaad

    ReplyDelete
  11. बहुत धन्यवाद. 😊😊

    ReplyDelete
  12. Vah, vah. Maza aa gaya padh kar. Mujhe Dhruv Taare ki yeh kahani bilkul nahi pata thi. Thank you for this. Ab mai bhi apni beti ko yehi kahani sunaoungi

    ReplyDelete
  13. Ye line pdhne ke Baad Dil Khush ho gya mano sare din ki thakan utar gyi !
    Actually ye concept bachhon k liye hi Hai aur apne vo last wLi line bolkr ISS Moto ko safal kr Diya

    ReplyDelete
  14. I'm glad my words encouraged you, par jab kahani he itni achhi tarah batayi gayi ho toh wah wah kaise na kare ;)

    ReplyDelete
  15. Hi! nominated you for The Mystery Blogger Award! the links for the nominations: https://thepunkpenblog.wordpress.com/2017/07/07/a-new-award/?iframe=true&preview=true&calypso_token=41a6bfbe-6c02-4b7c-a53e-7261bf9de9cc

    ReplyDelete
  16. Thank you so much Ashi for nomination !
    I am so sorry for replying late.

    ReplyDelete
  17. Nevermind, I'm glad you received it!

    ReplyDelete

Post a Comment

Please express your views Here!

Popular posts from this blog

Scientific reasons behind Hindu Rituals

Hinduism is the world’s oldest living religion and there are thousands of customs & traditions. Most of us really don’t know what is the scientific reason behind them even we have no idea about it.

1- Blowing Shankha(Conch shell) - In Hinduism, According to our ancient scriptures that Puranas, the shank originated during the Churning of the ocean (Samudra Manthan) by the Deities and Shri Vishnu held it in the form of weapon. As per a holy verse which is regularly chanted during the puja ritual it is mentioned that by the command of Shri Vishnu the deities Moon, Sun and Varun are stationed at the base of the shank, the deity Prajapati on its surface and all the places of pilgrimage like Ganga and Saraswati in its front part.

We blownShankha before starting any religious event even some of the people blown it every day during their regular prayer.

According to science, the blowing of a conch shell enhances the positive psychological vibrations such as courage, determination hope, op…

प्रेम पत्र २(पत्र का जवाब)

जैसा आपने पिछले पत्र में पढा था कि प्रेमिका रूठकर व्यंगपूर्ण पत्र लिखती है और जब यह पत्र उसके प्रेमी को मिलता है तो वो अपनी प्रेमिका को मनाने और भरोसा दिलाने के मकसद से पत्र का प्रेमपूर्ण जवाब लिखता है मगर मस्तिष्क में चलते गणित के कारण कैसे उसके विचार पत्र के माध्यम से निकलते हैं पढ़िए -



IMG source - http://i.huffpost.com/gen/1178281/images/o-LETTER-TO-EX-facebook.jpg








प्रेमी  अपनी प्रेमिका से -

प्रेमिका मेरी ओ प्राण प्यारी!

तुम्हे एक पल हृदय से ना दूर किया है ,

तुम्हारा और मेरा संग तो रसायन विज्ञान में जल बनाने की प्रक्रिया है !

जैसे हाइड्रोजन नहीं छोड़ सकती ऑक्सीजन का संग,

भगवान ने ऐसा रचा है ,हमारा प्रेम प्रसंग|





दुविधा सुनो मेरा क्या हाल हुआ है,

पूरा समय गति के समीकरणों में उलझ गया है !

कभी बल लगाकर पढ़ाई की दिशा में बढ़ता हूँ,

कभी तुम्हारे प्रेम की क्रिया प्रतिक्रिया से पीछे तुम्हारी दिशा में खींचता हूँ|



मेरे विचारों का पाई ग्राफ उलझ जाता है ,

ये Tan@  के मान की तरह कभी ऋणात्मक अनंत तो कभी धनात्मक अनंत तक जाता है !

मेरे ग्राफ रूपी जीवन में सारे मान अस्थिर हैं ,

मगर तुम्हर स्थान मेरे हृदय में पाई(π) …

पथ भ्रष्ट हैं इसलिए कष्ट हैं

क्यों पस्त हैं, क्या कष्ट है? किस अंधेर का आसक्त है। क्यों पस्त है कुछ बोल तू, अगर कष्ट में तो बोल तू, क्यों लड़ रहा हूं खुद से ही, ज़ुबान है तेरी भी, खोल तू।
क्यों भ्रष्ट हैं, वो मस्त हैं, वो निगल रहे हैं सारा देश! हम कष्ट में, पथ भ्रष्ट हैं, नहीं बच रहा है कुछ भी शेष। वो भ्रष्ट हैं क्योंकि हम कष्ट में, वो मस्त हैं क्योंकि ख़ुद हम भ्रष्ट हैं।
जो सख़्त हैं वो लड़ रहे हैं, जो कष्ट में भी बढ़ रहे हैं! जो कष्ट में भी सख़्त हैं, जो सख़्त हैं, वो समृद्ध हैं। क्यों हतप्रभ है, किसी समृद्ध से, तेरे भी हस्त हैं, चला इन्हें शस्त्र से! तेरे पास वक़्त है, तेरे पास शस्त्र हैं, फ़िर क्यों तू स्तब्ध है, यूं कष्ट में?
क्यों निर्वस्त्र है अगर वस्त्र हैं, क्यों चल रहा ये नग्न भेष, अगर निर्वस्त्र ज्यादा सभ्य है, तो मत कहो कि मानव है विशेष। कहो जीव सारे सभ्य हैं, वो सब भी तो निर्वस्त्र हैं| सब निर्वस्त्र ही समृद्ध थे, तो कोई लाया ही क्यों ये वस्त्र है। अब ये वस्त्र हैं तो बढ़ा कष्ट है, कोई सभ्य है तो कोई निर्वस्त्र है।
कुछ कटु सत्य हैं, जो कहीं लुप्त हैं, सही वक्तव्य हैं जो अभी गुप्त हैं। ना कुछ लुप्त ह…