Skip to main content

Posts

Showing posts from March, 2017

तू और मैं

एक तू है और एक मैं हूँ इस रिश्ते में 

मेरे लिए तू ही सब कुछ होती है 

मेरी हर बात में सिर्फ तू होती है 

मगर अफ़सोस मैं कैसे जताऊं 

इस तू तू मैं मैं का हाल कैसे समझाऊ 

क्योंकि तेरे लिए मैं ज्यादा जरूरी है सारे जमाने से 

 ज्यादा
तेरे इस मैं में तेरा स्वार्थ छिपा है 

मेरे लिए तू में मेरा मैं छुपा है 

इसीलिए तू ,तू है आज भी 

और मैं तो आज भी मैं हूँ

बोधकथा - मितव्ययी बनो

​आज की बोध कथा मैंने अपने स्कूल में किसी शिक्षक के शब्दों में सुनी थी शब्दशः मुझे याद नहीं मगर उसका सार मैं आपको सुनाता हूँ शायद ये कथा अपने भी कहीं सुनी हो

 जैसा की बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के बारे में सभी ने सुना है जिसकी स्थापना पंडित मदन मोहन मालवीय जी ने की थी , ये किस्सा उन दिनों का है जब पंडित जी ने विश्वविद्यालय बनाने का संकल्प लिया मगर स्थापना के लिए एक बड़ी राशि की आवश्यकता थी इतनी राशि पंडित जी के पास तो थी नहीं मगर फिर भी उन्होंने आस पास के गांव जाकर लोगों से चंदा एकत्रित करना शुरू किया

वो बारी बारी से धनी सेठो के पास जाते और उनसे शिक्षा के मंदिर के निर्माण के लिए योगदान मांगते , कुछ दयालु सेठ , साहूकार श्रद्धा अनुसार धन देकर पंडित जी को विदा करते तो कुछ दुत्कार कर भगा देते 

एक बार किसी ने पंडित जी को बताया फलां गांव में बड़ा धनी साहूकार रहता है और वो समाज कल्याण के कार्यों में हमेशा योगदान देता है , पंडित जी शाम के समय वहां पहुंचे तो साहूकार कुछ आवश्यक कार्य कर रहा था इसलिए उसने पंडित जी को प्रतीक्षा करने के लिए बोला और खुद पंडित जी के पास में ही अपना कार्य करता रहा ,

 अब पंडि…

व्यंग -एंटी रोमियो स्क्वाड

जैसा की हम सबको पता है , मार्च महीने में उत्तर प्रदेश में काफी उथल पुथल हुए हैं ,हाँ !अगर आप समझ गए तो आपको पता होगा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को प्रचंड बहुमत मिला और माननीय योगी आदित्य नाथ जी को मुख्य मंत्री नियुक्त किया गया |अब आप सोच रहे होंगे मैं ये सब क्यों बता रहा हूँ ये बातें तो सबको पता हैं , हाँ जरूर मै बीजेपी का समर्थक हूँ तभी शेखी बघार रहा हूँ ,तो नहीं यार ऐसा कुछ नहीं है |आज कुछ ऐसा हुआ की मुझे व्यंग लिखने के लिए मजबूर होना पड़ा आशा करता हूँ ,आप लोग व्यंग को व्यंग की तरह लेंगे कोई भी इसे गंभीरता से नहीं लेगा|

हुआ यूँ की जैसा आप सबको पता है मनचलों से निजात पाने के लिए योगी जी ने एंटी रोमियो स्क्वाड गठित की है , अब उनकी पूरी टीम यहां हमारे नॉलेज पार्क में फैली हुई है तो आज वो सारे कॉलेजेस के बाहर खड़े हो गए और किसी से भी पहचान पत्र मांग रहे थे और जैसा की यहां की सभ्यता रही है ,लड़के लड़कियां खुले आम आपस में प्रेम प्रदर्शन सडकों पर करते आए हैं तो बस आज उनपर पुलिस ने जमकर कहर बरपाया किसी के पापा को फ़ोन मिलाया, किसी की मम्मी से पूछा क्या आपकी बेटी लड़के से चिपक कर सार्वजानिक घूम स…

बोधकथा-The Orphan Boy and The Evil Witch

We’ve all heard stories from our mothers, grandmothers, and other homegrown bards. I too, grew up listening to such stories. Most of them came from the Mahabharat, the Jatak Kathas, some from Baba Yaga, and the likes of Cinderella. But some special stories were my Mother’s own imagination. This tale was one such figment of her mind, that stayed with me forever. And now, I long to tell this to my own daughter, when she’s old enough to understand the moral behind this story. The original was in Hindi mixed with a few Garhwali words and inventive inventives used by my Mother. I, on account of many readers being uncomfortable with Hindi, have translated it as best as I could into a poem in English.









An orphan boy with seven aunts,

Lived from day to day on their alms,

He’d clean their pots, their fields, their rooms,

And in return, he’d get some food.



One day, thus spake his seventh aunt,

‘Dear boy, I have naught but a magical plant,

‘Tis a magical golden fruit seed,

Sow it and thou shalt reap,

Gold…

नुमाइशें

ये रंग रोगन रूप यौवन ,

चमक दमक और जवानी 

खेल है सिर्फ दस साल का 

फिर दाद ,खाज , खुजली 

जोड़,पीठ ,गर्दन दर्द बीमारी

यही होगी हर एक की कहानी !
ये खिलता सा यौवन ,

मुरझा सा जायेगा 

चमकता हुआ ये चेहरा 

   धूल    खायेगा !
आज तुम कोई चाँद हो शहर का 

कल तुम्हारी जगह लेने कोई और चाँद आयेगा ,

ये नुमाइशों के सिलसिले जमाने में 

तारीख दर तारीख़ चलेंगे ,

कुछ रसिक लुत्फ़ उठाएंगे नुमाइश का 

फिर वो भी अपने घर निकल लेंगे !
बाद में जब कभी नुमाइश से ऊब जाओ 

तो तहज़ीब वाले मुहल्ले में आकर तो देखना ,

इस झूठ वाले मक़ान के उस फ़रेबी झरोखे से पर्दा हटाकर देखना !
वो खूब दूर तलक गरीब खाने नज़र आएंगे 

तब जाकर तुम्हे रिश्ते नाते ,तौर तरीके सब अच्छी तरह समझ आएंगे ,

और फिर तुम्हे तुम्हारी औकात ,रुतबा 

दोनों बिलकुल साफ साफ दिख जायेंगे !
©Confused Thoughts

अंतिम दृश्य (भाग -8 )

कुदरत भी क्या खूब खेलती है पहले खुद अंजान लोगों को एक दूसरे से मिला देती है , सारे मोह बंधन ,रिश्ते नाते बनाती है फिर एक क्षण में सब कुछ खत्म

बाद में रह जाती हैं सिर्फ यादें और जब ऐसी यादें आती हैं तो साथ में अश्रु धारा अनायास ही निकल आती है !

शक्तिप्रसाद की स्थिति उस हंस के जैसी है जिसका जोड़ा अब टूट चुका है और हंसिनी के वापस आने की अब कोई उम्मीद बाकि बची नहीं है !

वो घर के बाहर दरवाजे के बाईं तरफ वाले कोने पर जो खाट पड़ी है वहां अब शक्तिप्रसाद ने ठिकाना बना लिया है , सारा दिन यहीं एक जगह बैठे बैठे बिता देते हैं वहीं बैठे-बैठे और मंदिर जाना तो बिलकुल बन्द है मानो भगवान् से रुष्ट हों !

बच्चे कब तक रुके रहते उनकी भी अपनी ज़िन्दगी है भाग दौड़ भरी , धीरे धीरे सभी विदा हो गए अब बस बचे थे सुधीर और सुधीर की पत्नी , बच्चे तो कबके जा चुके आखिर भई उनके स्कूल्स थे , अंग्रेजी स्कूल में बच्चे पढ़ते हैं ज्यादा छुट्टी भी तो नहीं ले सकते पहले जमाने कुछ और थे जब लोग एक महीने ननिहाल में बिता देते थे और स्कूल वाले भी कुछ नहीं कहते थे मगर आजकल तो घर फ़ोन कर दिया जाता है कि आपका बच्चा स्कूल क्यों नहीं आ रहा है ?

खै…

Selfish or self care- part-3

A lot of boys and girls are waiting outside a small house after 10 min the door is opened and an old age man came outside the house and asked: "Are you guys waiting for 5-6pm batch ".All student say yes in a loud voice.

Actually, this is English coaching and today's new batch is going to start, Rohan was also there in the crowd with his 2-3 friends and now all of them enter in the small room which is being messy with the strength of 20 students even all are stranger to another one. You can better understand how coaching batch starts.

As we know very well boys count the girls and girls also want to know how many smart guys are in our batch Bytheway during this session a girl enters the room and asks to is this English batch?

Rohan answers - yes ( he get nervous when he tried to do interact with any girl that's why he said just yes )

She is damn pretty, height 5'2, very fair complexion eyes were sparkling like a star and trendy dress is enhancing her beauty 100% m…

बोध कथा - Guest Post Invitation to all

Note- please scroll and start reading after Hindi paragraph if you are not able to read Hindi . 

नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सब लोग 

आशा करता हूं आप सभी अच्छे होंगे और अपने अपने कार्यक्षेत्र में उत्कृष्ट कर रहे होंगे अगर नहीं कर रहे तो मुबारक हो मैं भी आपमें से एक हूँ 

आप सबकी लगभग सभी पोस्ट में पढ़ता हूँ चाहे वो में कॉलेज जाते बस में पढूं या फिर ऑटो में बैठे बैठे आपकी कविता पढ़के मुस्कराता हुआ हॉस्टल जाऊं या फिर वो लैब में थोड़ा भी समय मिला तो आपकी पोस्ट पढ़के मुझे फिर से उमंग उठती है कुछ लिखने की मगर लिखने के भाव मर चुके होते हैं जब मैं 8 बजे का गया हुआ 6:3० बजे शाम को रूम में आता हूँ मगर आज शनिवार और रविवार को मेरा अवकाश रहता है तो कुछ लिखने का मन करता है सो तो आज कुछ लिखने की कोशिश कर रहा हूँ-

दरअसल बात यह है कि हम सभी अपने अपने कार्यक्षेत्र में दौड़ रहे हैं हमे खुद नहीं पता चला कब हम छोटे से इतने बड़े हो गए कब हमारा बचपन निकल गया और जवानी आ गयी और आगे भी नहीं पता चलेगा कब बुढ़ापा आ जायेगा 

कितने लोग पीछे छूट गए पता नहीं , कितनी यादें हैं हमारे पास 

इन सबके बाद भी हमे बचपन याद आता है जो अब वाप…

Unrequited Love

Baby

You are free in your life

Please don't waste your time

I am your addict it's my problem

No need to make any rhyme.

Actually, I always do sinful acts

This is an issue is all about my crime.



I made that nonsense

Cz My thoughts  were totally confused

I won't blame you

You did not try to make me seduced.

I fall in love with you

it was the cause of  the theory of motion
When you come

The heart can't control its emotions.
If I am responsible for my circumstance

You should not be tensed about it

I don't expect your existence

Even I won't blame you, got it.
My goal, destination, visions

All are undecided

But my love remains constant

It's deep and still, one-sided.


©Confused Thoughts