Skip to main content

State of joyfulness

You become happy when outside circumstances come in your favor,You become joyful when none of the outside circumstances affect you anymore.~ #ShubhankarThinks#joyfull #happy #quote

अन्तिम दृश्य भाग-५

आप कृपया कमरा खाली कर दीजिए ,मुझे सफाई.करनी. है " ये भावुक आवाज थी हास्पिटल के सफाई कर्मी की.,.उसने ये बात बहुत संकोचवश बोली थी मानो अन्दर से हृदय उसे ये करने के लिये मना कर रहा हो वो कहते हैं ना "गन्दा है मगर धंधा है "! सभी को बाहर निकलवाना मजबूरी है उसकी वरना अपनों को ऐसी स्थिति में एक पल भी दूर करने का दर्द उसे अच्छे से पता है !



खैर सुधीर बाहर टहलने चला गया और कम्पाउंडर कमरे में चादर बदलने के लिये घुसा और उसने शक्तिप्रसाद को भी उठा दिया , उन्होंने ऑंखें तो खोल ली मगर उठकर बैठने जितनी हिम्मत अब नहीं थी , अब मुश्किल थी उन्हें बैठाने की पूरे ९० किलो के भारी शरीर को दुबला सा अकेला आदमी कहाँ उठा पाता मानो एक दिन की मजदूरी करने वाले श्रमिक को एक साथ ३-४ दिन का काम दे दिया हो बेचारा विफल होकर सुधीर को आवाज दे देता है "साहब बाबा जी को उठाने में मदद कर दो इनकी चादर बदलवानी है " सुनकर सुधीर अंदर कमरे में प्रवेश करता है और दोनों लोग मिलके उठा देते हैं अब बेचारे शक्ति प्रसाद भी क्या करें "उनकी गिनती ना जिंदों में है ना मरों में "





एक वक्त हुआ करता था ९०-१०० किलो ग्राम वर्ग के पहलवान को धोबी पछाड़ मारने में छन नहीं लगाते थे (धोबी पाट कुश्ती की एक तकनीक होती है जिसमे एक पहलवान सामने वाले को कपडे की भांति उठाकर जमीन पर पटखनी देता है )



आज उस पहलवान की स्थिति इतनी खराब है कि उसे उठाने के लिए दो लोग चाहिये ! जैसे नवजात शिशु पिछले जन्म की घटनाएं याद करके कभी रोता है कभी हँसता है ठीक वैसी स्थिति बुढ़ापे में हो जाती है जब वो इंसान बेहोशी की हालत में पड़ा रहता है , ठीक उसी शिशु की भांति शक्तिप्रसाद भी अतीत में डूबे रहते थे , उन्हें वो बात आज भी याद थी जब सुधीर अपने पत्नी बच्चों सहित शहर जा रहा था और सुधीर की इतनी हिम्मत नहीं हो रही थी कि एक बार पिता को बता दे , ऐसा नहीं है कि पिता को पता नहीं था उनके जाने के बारे में मधुमती सब पहले ही बता चुकी थी !



और आज तो मधुमती का बुरा हाल था एक तरफ छुप छुप कर रो रही थी वही दूसरी तरफ कभी बच्चों को पुचकारती तो कभी बहु को सारे त्यौहार की विधि समझाती और कभी समझाते समझाते रो पड़ती ! बहु क्या कम रो रही थी वो पिछले दो दिन से लगतार अकेले में रो रही थी आँखें लाल पड़ गयी थी उसकी मगर शहर जाना मजबूरी थी क्योंकि सुधीर को अब शाम हो जाती थी ऑफिस में और बच्चे अब बड़े हो चले थे तो उनके ट्यूशन के लिये गांव में तो कोई इतना अच्छा अध्यापक अभी तक था नहीं और २-२ बार बच्चे शहर जाएँ ऐसा हो नहीं सकता था ! अब ऐसे में बेचारी मधुमती की स्थिति उस बाढ़ पीड़ित ग्रामीण के जैसी थी जो उफनती हुई नदी को यह भी नहीं बोल सकता "वापस लौट जाओ ये ये मेरा गांव है भगवान के लिए अब आगे मत बढो अगर तुम बढ़ी तो मेरा घर बार सब उजड जायेगा "



ऐसा नहीं है दुःख सुधीर को ना हो मगर उसने अपने आँसु आँखों के एक छोटे से कोने में ऐसे रखे हुए थे जैसे रेंत में चांदी मिली रहती है जो सूक्ष्म नजरों से देखी जा सकती है !और वो भी क्या करे उसने तो बोला था माँ बाप से की आप भी साथ में चलना मगर जिस इंसान ने ७० साल एक गांव में निकाल दिए वो अब चन्द वर्षों के लिए अपना गांव छोड़कर क्यों जाने लगे !गांव के बुजुर्गों का कहना है कि धन कमाना बहुत आसान काम है मगर इज्जत कमाने में पूरी उम्र निकल जाती है , वही इज्जत शक्तिप्रसाद ने भी कमायी थी उसे छोड़कर वो अंजान शहर क्यों जाने लगे !



खैर छोडो इन सब बातों में रखा भी क्या है सारी तैयारी तो अब हो चुकी हैं बस सुधीर को विदा लेनी थी , माँ तो बेचारी दरवाजे पर खड़ी थी ,बस शक्तिप्रसाद का इंतेजार था ! सुधीर को समझ नहीं आ रहा था कैसे बोलूंगा जाने के लिए पिछले १५ वर्ष से रोज उसी शहर में जाता था बिना किसी की अनुमति लिए मगर जाने क्यों आज उसके कदम लड़खड़ा रहे थे !



शक्तिप्रसाद वैसे तो सख्त स्वाभाव के थे ,कितनी भी विषम परिस्थिति रहीं हो कभी विचलित नहीं हुए , मगर आज पोते_पोती से लगाव कहें या पुत्रमोह आज गांव के बाहर वाले महादेव मंदिर पर ये पत्थर सा कालेज पसीज गया और अश्रुधारा झरने के समान उस पत्थर को काटकर निकली और फिर आंसू पोंछकर घर की ओर वापस आ गये और फिर से घर के दरवाजे पर ऐसे खड़े हो गए मानो कोई पहलवान कुश्ती में जाने के लिए तैयार खड़ा हो, तब तक सुधीर बच्चों को गाड़ी में बैठा चुका था



"राम राम पिता जी ..............." बडा ढांढस बांधकर सिर्फ ये चार शब्द बोल पाया अब भावनाओं पर कौन काबू कर सकता है ,बोलते बोलते उसका गला रुंध गया और आँखों से आंसू भी छलक गये मगर उसने तेजी से मुंह गाडी की तरफ मोड़ा और बैठ गया ! गाडी आगे बढ़ गयी और मधुमती का ज्वालामुखी एक साथ फुट पड़ा मानो अब तक वो चरम पर था शक्तिप्रसाद ने बिना कुछ बोले मधुमती के कंधे पर हाथ रखकर अंदर चले गए जैसे हारे हुए पहलवान के कंधे पर उसका गुरु हाथ रखमर सांत्वना देता है ! ऐसा नहीं है उसका समझाने का मन नहीं था मगर स्थिति कहाँ थी ऐसी की वो कुछ भी बोल पाये , जैसे तैसे वो आंसू रोके हुआ था !



वरना मधुमती का दुःख उसे भी अच्छे से पता था , उसे खूब अहसास था कि उसकी स्थिति ऐसी है जैसे बसंत के महीने में उनके बाग़ से कलरव कहीं गुम हो गया हो !जैसे बड़े होने पर चिड़िया के बच्चे घोसला छोड़कर उड़ जाते हैं वैसा ही मधुमती के साथ हुआ है .............



आगे पढ़ें



सबसे पहले मैं क्षमा चाहूँगा देरी के लिये , ऐसा नहीं है ये जानबूझकर हुआ है जबसे क्लासेज स्टार्ट हुई है समय नहीं मिल पाता , लैब में बैठकर कॉपी पर ये लिखी थी छिप कर 😁!












 

Part 1


Part 2



Part 3



Part 4



Part 5



Part 6



Part 7



Part 8



Part 9


 

©Confused Thoughts

Comments

  1. 👍👍👍👍👌👌👌👌👌

    ReplyDelete
  2. I hope you have read all previous parts !
    Thank you for reading my small effort

    ReplyDelete
  3. yea, i try to read as much posts as i can :)

    ReplyDelete
  4. Good ! I was just asking because it is 5th part so I thought you have already read 1,2,3,4 😂😂
    Bytheway
    Keep writing and reading
    🙏🙏

    ReplyDelete
  5. 🙇🙇🙇🙇 शाष्टांग दण्डवत् प्रणाम! बहुत अच्छी शैली है आपके लेखन की...😊👍

    ReplyDelete
  6. Ap aisa kren usse phle ISS mudra m Mai a jaunga ! 😁😁
    🙏🙏🙏
    Bhut bhut dhanyavaad apka
    Apne meri Choti si rachna par drashti dali

    ReplyDelete
  7. 😊😊😊 अरे! छोटी सी रचना थी ये...तो बड़ी कितने भाग में जायेगी... और ये गलत बात पढ़ाई के वक़्त उस पर ध्यान दिया कीजिये आप😎😎😎

    ReplyDelete
  8. Pta ni story bol rhi h aur m story k sath anyay to ni kr skta
    😁😁Nahi lecture m NAHI lab m likhi thi jb 135 minute ki lab hogi to itni der Kon pdhai krega
    Bss log USS tym phone m lgte h mene ye likh li 😉
    Actually paper p to likh lo mgr sbse Jada typing m time waste hota h Jo aj complete hua

    ReplyDelete
  9. अरे! बहुत खूब लिखतें हैं आप...ऐसे ही लिखते रहे हमें इंतज़ार रहता हैं आपके पोस्ट का😊😊😊

    ReplyDelete
  10. Itni kad se Adhik tareef k liye phirr SE dhanyavaad !
    Haan jrur shayad age week tk next part a jayega
    Koshish krunga apko pasand aye 🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  11. इंतज़ार रहेगा...😊😊😊👍👍👍

    ReplyDelete
  12. Nice Blog!!!

    Check out my blog also to see the magic of letters.

    Hope you will like it.:)

    ReplyDelete
  13. Another beautiful installment. Shaktiprasad and Sudhir's equation has been brilliantly eked out. ऐसे ही hotein हैं बेटा और पिता। now moving to the next part 😊

    ReplyDelete

Post a Comment

Please express your views Here!

Popular posts from this blog

Scientific reasons behind Hindu Rituals

Hinduism is the world’s oldest living religion and there are thousands of customs & traditions. Most of us really don’t know what is the scientific reason behind them even we have no idea about it.

1- Blowing Shankha(Conch shell) - In Hinduism, According to our ancient scriptures that Puranas, the shank originated during the Churning of the ocean (Samudra Manthan) by the Deities and Shri Vishnu held it in the form of weapon. As per a holy verse which is regularly chanted during the puja ritual it is mentioned that by the command of Shri Vishnu the deities Moon, Sun and Varun are stationed at the base of the shank, the deity Prajapati on its surface and all the places of pilgrimage like Ganga and Saraswati in its front part.

We blownShankha before starting any religious event even some of the people blown it every day during their regular prayer.

According to science, the blowing of a conch shell enhances the positive psychological vibrations such as courage, determination hope, op…

प्रेम पत्र २(पत्र का जवाब)

जैसा आपने पिछले पत्र में पढा था कि प्रेमिका रूठकर व्यंगपूर्ण पत्र लिखती है और जब यह पत्र उसके प्रेमी को मिलता है तो वो अपनी प्रेमिका को मनाने और भरोसा दिलाने के मकसद से पत्र का प्रेमपूर्ण जवाब लिखता है मगर मस्तिष्क में चलते गणित के कारण कैसे उसके विचार पत्र के माध्यम से निकलते हैं पढ़िए -



IMG source - http://i.huffpost.com/gen/1178281/images/o-LETTER-TO-EX-facebook.jpg








प्रेमी  अपनी प्रेमिका से -

प्रेमिका मेरी ओ प्राण प्यारी!

तुम्हे एक पल हृदय से ना दूर किया है ,

तुम्हारा और मेरा संग तो रसायन विज्ञान में जल बनाने की प्रक्रिया है !

जैसे हाइड्रोजन नहीं छोड़ सकती ऑक्सीजन का संग,

भगवान ने ऐसा रचा है ,हमारा प्रेम प्रसंग|





दुविधा सुनो मेरा क्या हाल हुआ है,

पूरा समय गति के समीकरणों में उलझ गया है !

कभी बल लगाकर पढ़ाई की दिशा में बढ़ता हूँ,

कभी तुम्हारे प्रेम की क्रिया प्रतिक्रिया से पीछे तुम्हारी दिशा में खींचता हूँ|



मेरे विचारों का पाई ग्राफ उलझ जाता है ,

ये Tan@  के मान की तरह कभी ऋणात्मक अनंत तो कभी धनात्मक अनंत तक जाता है !

मेरे ग्राफ रूपी जीवन में सारे मान अस्थिर हैं ,

मगर तुम्हर स्थान मेरे हृदय में पाई(π) …

पथ भ्रष्ट हैं इसलिए कष्ट हैं

क्यों पस्त हैं, क्या कष्ट है? किस अंधेर का आसक्त है। क्यों पस्त है कुछ बोल तू, अगर कष्ट में तो बोल तू, क्यों लड़ रहा हूं खुद से ही, ज़ुबान है तेरी भी, खोल तू।
क्यों भ्रष्ट हैं, वो मस्त हैं, वो निगल रहे हैं सारा देश! हम कष्ट में, पथ भ्रष्ट हैं, नहीं बच रहा है कुछ भी शेष। वो भ्रष्ट हैं क्योंकि हम कष्ट में, वो मस्त हैं क्योंकि ख़ुद हम भ्रष्ट हैं।
जो सख़्त हैं वो लड़ रहे हैं, जो कष्ट में भी बढ़ रहे हैं! जो कष्ट में भी सख़्त हैं, जो सख़्त हैं, वो समृद्ध हैं। क्यों हतप्रभ है, किसी समृद्ध से, तेरे भी हस्त हैं, चला इन्हें शस्त्र से! तेरे पास वक़्त है, तेरे पास शस्त्र हैं, फ़िर क्यों तू स्तब्ध है, यूं कष्ट में?
क्यों निर्वस्त्र है अगर वस्त्र हैं, क्यों चल रहा ये नग्न भेष, अगर निर्वस्त्र ज्यादा सभ्य है, तो मत कहो कि मानव है विशेष। कहो जीव सारे सभ्य हैं, वो सब भी तो निर्वस्त्र हैं| सब निर्वस्त्र ही समृद्ध थे, तो कोई लाया ही क्यों ये वस्त्र है। अब ये वस्त्र हैं तो बढ़ा कष्ट है, कोई सभ्य है तो कोई निर्वस्त्र है।
कुछ कटु सत्य हैं, जो कहीं लुप्त हैं, सही वक्तव्य हैं जो अभी गुप्त हैं। ना कुछ लुप्त ह…