Skip to main content

State of joyfulness

You become happy when outside circumstances come in your favor,You become joyful when none of the outside circumstances affect you anymore.~ #ShubhankarThinks#joyfull #happy #quote

अन्तिम दृश्य _ भाग-२

​चाचा आप सो गये क्या बैठे - बैठे? रात काफी है, अगर नींद आ रही है तो मैं आपको घर छोड़ आऊं? " - पीछे से सुधीर बड़े धीमे स्वर में बोला।




"नहीं - नहीं! मैं जाग रहा हूं" -एक साथ सकपकाकर कर जमुनादास उठे, जाग तो रहे थे मगर आंखें ऐसे खुली जैसे गहरी नींद से उठे हों! 




फिर आंखें मलते हुए बोले - "तुम अकेले रह जाओगे यहां, गम की रातें बहुत लम्बी हो जाती हैं, बेटा! एक - एक पल वर्षों के जैसा लगता है, अगर दोनों रहेंगे तो बोलते - बतियाते रात गुजर जायेगी।"




अब सुधीर निःशब्द था, सहमति भरते हुए बोला - "ठीक है।"




तभी बहुत हलके से स्वर में कुछ आवाज आई-




ये स्वर थे शक्तिप्रसाद के! बड़ी हिम्मत और कोशिश के बाद ये स्वर निकले थे, सुधीर दौड़ता हुआ समीप आया और बोला "हां, पिताजी!"




"अजीत" - सिर्फ इतना ही बोल पाये वो, बोलना तो और भी बहुत कुछ चाहते थे मगर शरीर खुद उनका  अवरोध कर रहा था! 




सुधीर चुप खड़ा था, मानो उसने बात ही नहीं सुनी हो। एक पल आपको लगेगा उसने ध्यान नहीं दिया था, मगर वो सिर्फ एक शब्द में सब कुछ समझ गया था कि आखिर बोलना क्या चाहते हैं पिताजी! मगर प्रश्न का उत्तर नहीं था उसके पास!








जाकर फिर से जमुना प्रसाद के बगल में बैठ गया और शक्तिप्रसाद भी अपनी आंखें पहले की भांति मूदकर सो गये (बीमारी में नीद जैसे जागने ही नहीं देती)।




"फोन किया था उनको" - काफी देर की शांति के बाद जमुना प्रसाद चुप्पी तोड़ते हुए बहुत हल्के स्वर में बोले! 




"हां, मगर दोनों ने अपने - अपने बहाने बताकर थोड़ी देर बाद बात करने का आश्वासन दे दिया है, मानो मैं उनका कोई बिजनेस क्लाइंट हूं!" 




सुधीर चुप रहना चाह रहा था मगर पहले शक्तिप्रसाद, बाद में अब जमुनाप्रसाद एक ही बात पूछ रहे थें, तो सुधीर थोड़ा झल्लाकर, भावपूर्ण होकर यह बात बोला और बोलते - बोलते उसका गला रूंध गया! 




जमुनाप्रसाद  की मानो किसी ने आवाज छीन ली हो, एकदम चुप थे। फिर से वही सन्नाटा हो गया! 




अभी भी सुधीर के भाव शांत नहीं हो रहे थें, आखिर ऐसा हो भी क्यों ना, कई वर्षों से वो चुप ही तो था! कभी उसने भाइयों के बारे में शिकायत नहीं की, हमेशा बड़े होने का पूरा फर्ज अदा किया। यही सब बातें सुधीर के दिमाग में एक अजीब - सा शोर कर रहीं थीं! 




कहने को तो पूरा कमरा शांत था, मगर सुधीर के लिए तो भीषण कोलाहल था! मानो ये कर्कश आवाजें उसकी श्रवण शक्ति छीन रही हों! 




अब पुरानी यादों को कौन रोक पाया है! कभी ना कभी दिमाग में आ ही जाती हैं और फिर जमकर हमला करती हैं जिससे मन और हृदय दोनों चोटिल हो जाते हैं !




सुधीर भी उसी अजब - सी दुविधा में फंस चुका था,

उसे वो दिन याद आ रहे थे, जब गांव में बड़े - से बरामदे में, उनकी मां चूल्हे पर रोटियां बनाती थी और सुधीर साईकिल से अपने घर वापस आता था। आखिर उसका कॉलेज पूरे १६ किमी दूर जो था गांव से और वहीं दोनों भाई रविवार की छुट्टियां मनाने मेहमान की भांति आते थें। शक्तिप्रसाद पुराने विचारों के आदमी थे। मगर पढ़ाई - लिखाई के मामले में वो अपने बेटों को सबसे आगे रखना चाहते थे! जब बड़े बेटे को पढ़ाने का समय था तब उनके पास इतने ज्यादा पैसे नहीं थे कि उसे बड़े कान्वेंट स्कूल में शहर भेज सकें। इसलिए सुधीर को प्राथमिक विद्यालय में पढ़ाया मगर पढ़ाई में अच्छा होने के कारण सारी कक्षायें प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की। बाद में पास के शहर के एक सरकारी कॉलेज में बीएससी में दाखिला भी मिल गया!




वो कहते हैं ना ऊपर वाला कब फकीर बना दे, कब  अमीर बना दे पता नहीं चलता! वही शक्तिप्रसाद के साथ हुआ। खेती अच्छी होने लगी थी और सुधीर भी हाथ बंटाता तो अब धन की कोई कमी नहीं थी। इसलिए दोनों छोटे बेटों को शहर के बड़े कान्वेंट में भेज दिया गया क्योंकि गांव में लोग सोचते हैं - एक बेटा मां - बाप के पास रहना जरूरी है, इसलिए सुधीर को गांव से रोज रास्ता नापनी पड़ती थी। मगर जवान शरीर था, एक तरह से रोज की कसरत ही समझ लो! 




फिर सुधीर की पढ़ाई पूरी हुई और सरकारी नौकरी के लिए आवेदन किया और झट से उनका चयन भी हो गया! 




सुधीर को लगता था कि मां - बाप का लाड़ - प्यार छोटे भाइयों में ज्यादा है। मैं घर पर ही रहता हूं इसलिए ज्यादा महत्व नहीं दिया जाता! 




बात उसकी भी कई हद तक ठीक थी, क्योंकि दोनों छोटे भाई कभी - कभी गांव आते तो खूब जोरों - शोरों से सत्कार होता था। मगर सुधीर को इससे कभी जलन नहीं हुई, क्योंकि वो भी बहुत अधिक स्नेह करता था अपने भाइयों से।




वो बात अभी भी याद है उसे,जब शहर जाकर अपने भाइयों की तरफ से खूब लड़कर आया था, कुछ लड़के परेशान करते थें हॉस्टल में। जवानी का गर्म खून कहां सहता है ये सब! जैसे ही भाइयों ने सुधीर को बताया वो तुरन्त साइकिल लेकर हास्टल गया और वार्डन की एक ना सुनते हुए लडकों की खूब पिटाई की! आखिर गुस्सा भी क्यों नहीं आता! सुधीर के प्यारे भाइयों को हाथ जो लगा दिया था किसीने, जिनके लिए वो  अलग से अपने हिस्से की मिठाई तक दे देता था।




वो बात अलग है, बाद में वार्डन ने दोनों भाइयों को निलम्बित कर दिया और शक्तिप्रसाद से माफीनामा मांगने के बाद फिर से बहाल किया।




और फिर घर जाकर सुधीर को शक्तिप्रसाद के भीषण गुस्से का शिकार भी होना पड़ा, मगर उसे अपने किये का  तनिक भी पछतावा नहीं था।




आखिर अपनी जगह वो ठीक भी था, क्योंकि अजीत ६ साल छोटा और विनोद ७.५ साल छोटा था तो स्नेह होना लाजिमी था!




फिर दोनों बाहर पढ़ने चले गयें, तो सुधीर अकेला सा पड़ गया। यह कहना न्यायपूर्ण नहीं है क्योंकि वो तो बचपन से ही अकेला था क्योंकि पहले भाई बहुत छोटे थें, बाद में दोनों बाहर चले गयें और ऊपर से शक्तिप्रसाद की सख्त हिदायत थी गांव में दोस्त ना बनाने की! 

मगर कहते हैं ना कामकाजी इन्सान के लिए अकेलापन कहां? 



काम से उसने दोस्ती कर ली थी, बिल्कुल अपने बाप की तरह!

वो कहावत है ना 
"मां को बेटी, बाप को घोड़ा, बहुत नहीं, तो थोड़ा - थोड़ा!" 



खैर वक्त किसके वश में रहा है! रावण ने काल को कैद कर रखा था, मगर एक दिन काल कैद से छूट गया और पूरी लंका तबाह कर गया! 

.......आगे  पढ़ते रहिये 

 

Part 1


Part 2



Part 3



Part 4



Part 5



Part 6



Part 7



Part 8



Part 9





Comments

  1. मेरे छोटे से प्रयास पर ध्यान देने के लिए
    बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. Thanks to you dear...itna accha sa kuch share karne ke liye☺

    ReplyDelete
  3. अगर मेरी कल्पित कहानी से आपको कुछ अच्छा मिला है तो मेरा लिखना यहीं सफल है ! मुझे लगता है मैं अभी तक इस कहानी के साथ न्याय नहीं कर पाया हूं कोशिश अभी भी जारी है ...

    ReplyDelete
  4. I love the way this is progressing. Saath saath ek udasi bhi hai ki Shaktiprasad ke woh do laadle jinke liye usne aur Sudhir ne itna kuch saha, unke aakhri waqt mein unke saath bhi nahi hain. Wah ri zindagi....Gazab khel khelti hai tu bhi. Ek hidayat zaroor dungi - apne Urdu ke shabdon pe tanik dhyaan dijiye. Aapko pata he hoga ki Urdu ke shabd Hindi mein zara alag tareeke se likhe jaate hain. For example, roz yaani ki har din, ek Urdu ka shabd hai, jise hindi mein sahi tareeke se रोज likha jata hai, lekin 'ja' ke neeche ek bindu aata hai. Hum Bharatvasiyon ne uss shbd Roz ko रोज mein tabdeel kar diya hai, lekin woh sahi talaffuz nahi hai. Bas itna he kehna tha, Baki aap khud he bahut umda likhte hain! Keep it up!

    ReplyDelete
  5. Mam sbse phle m thank you bolunga apne meri story pdhi and
    Uske baad ek thank you hindayat k liye bnta hai, this is first time , someone have given such valuable comment ,in my the learning phase I really never think about it but in future sure I will try to create difference between Hindi and Urdu ,
    This point is valuable for me .
    Actually I did read hindi books and novel in 10th standard that's why I made such mistakes but next time I will try to improve .

    ReplyDelete
  6. Happy to help... You're most welcome 😊 😊

    ReplyDelete
  7. Mam need your help ?
    If you get free time then please point out those words from this story .
    I know it's time wasting but please help me if you can

    ReplyDelete
  8. It's no time wasting. Please give me some time. I'll be glad to help you out 😊

    ReplyDelete
  9. Not hurry !
    When you have free time ,you can find out

    ReplyDelete
  10. गांव के लोग बडों का स्वागत इसी प्रकार से करते हैं !

    ReplyDelete
  11. Humein bhi pata hai. Hum bhi Himalay के गाँव में रेह चुके हैं 😁

    ReplyDelete
  12. मैं गांव में ही रहता हूं

    ReplyDelete
  13. मुझे समझ आ गया था आपके पिछले comment से

    ReplyDelete
  14. Wow ! Yarr phle toh aap apna name btaeye...what a marvellous post...i really really happy to see this stuff here and at first time when i completed reading then again started to read...this is a great demanded story of india and i loved these so beautifully designed words ...bhai chahe jitna bhi appreciate krun wo bhi kam pdega aapke post k aage...

    ReplyDelete
  15. Omg
    So much appreciations
    I did not think that a person will use such great words for my small creation
    I can't express my feelings , you won't believe that I took screenshot first and have putted on whatsapp status
    It mean alot to me
    Thank you so much for your kind words
    Oh remember !my name is shubhankar
    Glad to know that you liked my post very much
    Thank you again bro !🙏

    ReplyDelete
  16. U r the best creater in the world..i can say with my 101 ℅ confidence..↗↗↗

    ReplyDelete
  17. Bhai Bhai
    Ye tareef kuch overflow ho gyi 😉
    NAHI yaar m to ek chota SA writer hu Abhi kuch Dino phle likhna start Kia tha
    Thanks for such appreciation next time I will try to improve little bit more

    ReplyDelete
  18. No overflow..keep going brother
    What does it mean 'chota sa writer'?
    It means nothing ...
    U knw every artiest is a first learner...

    ReplyDelete
  19. Thanks bro
    For such kinds of motivation

    ReplyDelete

Post a Comment

Please express your views Here!

Popular posts from this blog

Scientific reasons behind Hindu Rituals

Hinduism is the world’s oldest living religion and there are thousands of customs & traditions. Most of us really don’t know what is the scientific reason behind them even we have no idea about it.

1- Blowing Shankha(Conch shell) - In Hinduism, According to our ancient scriptures that Puranas, the shank originated during the Churning of the ocean (Samudra Manthan) by the Deities and Shri Vishnu held it in the form of weapon. As per a holy verse which is regularly chanted during the puja ritual it is mentioned that by the command of Shri Vishnu the deities Moon, Sun and Varun are stationed at the base of the shank, the deity Prajapati on its surface and all the places of pilgrimage like Ganga and Saraswati in its front part.

We blownShankha before starting any religious event even some of the people blown it every day during their regular prayer.

According to science, the blowing of a conch shell enhances the positive psychological vibrations such as courage, determination hope, op…

प्रेम पत्र २(पत्र का जवाब)

जैसा आपने पिछले पत्र में पढा था कि प्रेमिका रूठकर व्यंगपूर्ण पत्र लिखती है और जब यह पत्र उसके प्रेमी को मिलता है तो वो अपनी प्रेमिका को मनाने और भरोसा दिलाने के मकसद से पत्र का प्रेमपूर्ण जवाब लिखता है मगर मस्तिष्क में चलते गणित के कारण कैसे उसके विचार पत्र के माध्यम से निकलते हैं पढ़िए -



IMG source - http://i.huffpost.com/gen/1178281/images/o-LETTER-TO-EX-facebook.jpg








प्रेमी  अपनी प्रेमिका से -

प्रेमिका मेरी ओ प्राण प्यारी!

तुम्हे एक पल हृदय से ना दूर किया है ,

तुम्हारा और मेरा संग तो रसायन विज्ञान में जल बनाने की प्रक्रिया है !

जैसे हाइड्रोजन नहीं छोड़ सकती ऑक्सीजन का संग,

भगवान ने ऐसा रचा है ,हमारा प्रेम प्रसंग|





दुविधा सुनो मेरा क्या हाल हुआ है,

पूरा समय गति के समीकरणों में उलझ गया है !

कभी बल लगाकर पढ़ाई की दिशा में बढ़ता हूँ,

कभी तुम्हारे प्रेम की क्रिया प्रतिक्रिया से पीछे तुम्हारी दिशा में खींचता हूँ|



मेरे विचारों का पाई ग्राफ उलझ जाता है ,

ये Tan@  के मान की तरह कभी ऋणात्मक अनंत तो कभी धनात्मक अनंत तक जाता है !

मेरे ग्राफ रूपी जीवन में सारे मान अस्थिर हैं ,

मगर तुम्हर स्थान मेरे हृदय में पाई(π) …

पथ भ्रष्ट हैं इसलिए कष्ट हैं

क्यों पस्त हैं, क्या कष्ट है? किस अंधेर का आसक्त है। क्यों पस्त है कुछ बोल तू, अगर कष्ट में तो बोल तू, क्यों लड़ रहा हूं खुद से ही, ज़ुबान है तेरी भी, खोल तू।
क्यों भ्रष्ट हैं, वो मस्त हैं, वो निगल रहे हैं सारा देश! हम कष्ट में, पथ भ्रष्ट हैं, नहीं बच रहा है कुछ भी शेष। वो भ्रष्ट हैं क्योंकि हम कष्ट में, वो मस्त हैं क्योंकि ख़ुद हम भ्रष्ट हैं।
जो सख़्त हैं वो लड़ रहे हैं, जो कष्ट में भी बढ़ रहे हैं! जो कष्ट में भी सख़्त हैं, जो सख़्त हैं, वो समृद्ध हैं। क्यों हतप्रभ है, किसी समृद्ध से, तेरे भी हस्त हैं, चला इन्हें शस्त्र से! तेरे पास वक़्त है, तेरे पास शस्त्र हैं, फ़िर क्यों तू स्तब्ध है, यूं कष्ट में?
क्यों निर्वस्त्र है अगर वस्त्र हैं, क्यों चल रहा ये नग्न भेष, अगर निर्वस्त्र ज्यादा सभ्य है, तो मत कहो कि मानव है विशेष। कहो जीव सारे सभ्य हैं, वो सब भी तो निर्वस्त्र हैं| सब निर्वस्त्र ही समृद्ध थे, तो कोई लाया ही क्यों ये वस्त्र है। अब ये वस्त्र हैं तो बढ़ा कष्ट है, कोई सभ्य है तो कोई निर्वस्त्र है।
कुछ कटु सत्य हैं, जो कहीं लुप्त हैं, सही वक्तव्य हैं जो अभी गुप्त हैं। ना कुछ लुप्त ह…