Skip to main content

हालात एक जैसे कभी ना रहे

 ख़्वाब हो सकते हैं कितने भी हसीन, ऐसा कभी होता नहीं है कि सब सही रहे।  दो चीजें अलग हैं तो वो अलग ही रहेंगी, हो भी कैसे सकता है कि तनातनी ना रहे। सब जद्दोजहद में कि खुशियां हो मेरे हिस्से, ग़म का साया मेरे इर्दगिर्द कहीं ना रहे। कभी रौनक हुई तो कभी लंबे सन्नाटे मगर हालात एक जैसे तो कभी ना रहे। सांस छोड़ने से मौत और सांस आए तो जिंदगी, ध्यान से देख लें अगर तो ये डर कभी ना रहे। कुदरत ने बनाए हैं दुनिया में अंधेरे उजाले, ताकि मनोरंजन में कभी कोई कमी ना रहे। ~ #ShubhankarThinks

रिश्तों का दायरा (Scope of relationships)

नमस्कार दोस्तो hello guys

वो कहते हैं ना इन्सान कितनी भी भाषाओं में लिख,बोल व सुन सकता है मगर सोचता अपनी मातृभाषा में ही है| (सबकी बात नहीं कर रहा सिर्फ अपने विचार रख रहा हूं 😁)

आज मैं सीधे मुद्दे पर आता हूं , जैसा कि मेरा आज का शीर्षक है रिश्तों का दायरा जैसा कि आप सब अच्छी तरह जानते हैं! रिश्तों का कोई दायरा नहीं होता , चाहे वो बाप बेटे का रिश्ता हो ,चाहे भाई भाई का रिश्ता हो , मां बच्चों का रिश्ता हो इन सबकी कोई सीमा नहीं होती ! इन रिश्तों में प्रेम बिना किसी लालच के किया जाता है !खैर मैं उलझा रहा हूं अब आपको मेरा विश्वास करो ,मैं आपको भ्रमित करना बिल्कुल नहीं चाहता मगर हमने बचपन से ही सफाई देना सीखा है मतलब अपनी कडवी बात को ऐसे रखो जैसे जहर के ऊपर से चाशनी की परत चढा दी हो!वही मेरे दुर्गुणों में सम्मिलित है|

जैसा कि आप सबको पता है अंग्रेजी कैलेण्डर का नववर्ष प्रारम्भ होने वाला है, चारों ओर बधाईयां , कार्ड, मैसेज, ऑफर्स का तांता लगा हुआ है| मैं भी बहुत प्रसन्न था क्योंकि मुझे भी अपने सभी मित्रों, सम्बन्धियों को बधाईयां देनी थी | जैसा कि आप सबको पता है , व्हाट्सऐप, फेसबुक का जमाना है तो मैं भी इन्ही माध्यमों से बधाई के मैसेज सबको भेजना वाला हूं||

अभी मैं इसी विषय में विचार कर रहा था तभी एक और विचार और आया| इनमें से कितने लोगों से मैं प्रतिदिन बात करता हूं ?कितने लोगों से हफ्ते में एक बार बात करता हूं ?फिर सोचा चलो पूरे महीने में देखता हूं कितने लोगों से एक बार भी बात होती है?आखिरकार मैंने पाया 90% लोगों से सिर्फ पर्वों और जन्म दिवस की बधाई के मैसेज आते जाते हैं| इससे ज्यादा इन ढेर सारे नम्बर्स का कुछ भी औचित्य नहीं है| हां मैं गर्व के साथ कह सकता हूं मेरे फोन में २०० कान्टैक्ट हैं , कान्टैक्ट शब्द का मतलब अगर देखा जाये तो हिन्दी अनुवाद सम्पर्क होता है , सम्पर्क का मतलब मिलना जुलना (मुझे पक्का नहीं पता) सम्पर्क करना मतलब किसी व्यक्ति से मिलना! अगर मैं अपने इन २०० कान्टैक्ट की बात करूं तो सम्पर्क की यह परिभाषा कहीं नहीं ठहरा मगर फिर भी मेरा सिम बताता है contact memory is full , space limit is exceed, ऐसा लगता है जैसे फोन बोल रहा है - आप इतने से ज्यादा सम्पर्क सेव नहीं कर सकते , मगर देखा जाये तो क्या फोन सच कह रहा है कि मेरे इतने सम्पर्क सेव हैं या फिर मैं खुद से झूठ बोल रहा हूं !

खैर एक बार सोचता हूं, आखिर इतने कान्टैक्ट आये कहां से ? तब मुझे याद आया , जब मैं किसी की शादी में गया था तो वहां कुछ पुराने रिश्तेदार मिले थे, जिन्होने बडी उत्सुकता से अपना नम्बर दिया था और बदलते मैं मेरा नम्बर भी लिया था और पुराने कालेज के दोस्त जिनसे नम्बर सिर्फ इसलिए लिया गया था , अगर भविष्य में कुछ काम होगा तो कॉल कर सकूं !

खैर मेरे विचार हमेशा मुझे उलझाये रखते हैं , मेरे विचार पढने के लिए धन्यवाद !

हां याद आया ,

नववर्ष की आपको हार्दिक शुभकामनायें , वर्ड प्रैस मेरे लिए माध्यम है , जहां में स्वतन्त्रता पूर्वक विचार रख सकता हूं ! आशा करता हूं नववर्ष आपके जीवन में ढेर सारी खुशियां लाये !
नीचे एक वीडियो की लिंक दी गयी है अगर आपके पास खाली समय हो तो वीडियो अवश्य देखेंगे नहीं तो परेशान होने की आवश्यकता नहीं है ! धन्यवाद

As you know a person can speak, write, listen to different languages but can only think in his own mother tongue(I am not talking about all, I just put my own thoughts)
Today I come straight to the point, as the title of my relationships today as you are well aware of the scope of the relationship is not a circle, whether it be the father-son relationship, a relationship of brothers, mother, children the relationship of all these are no limits! Greed is no love in these relationships? Well, I'm confused now, but trust me, I do not want to confuse you, we have learned from childhood to cleaning means such as poison Put that thing over your Bitter When the layer of syrup retread! that is included in my Durgunon |
As all of you know the English calendar New Year is about to begin, around Congratulations, cards, messages, there is a stream of offers, I was very happy because I have all my friends, relatives had to Congratulations! As you all know, WhatsApp, Facebook is the age of these mediums, so I'm going to send everyone a message of congratulations!
Just when I was thinking about another idea that came, how many people I talk to every day, once a week to talk about how many people, the thought of how many people see it's a whole month it is time, finally I found only 90% of people are coming festivals and birthday greetings message, a lot more than that these numbers do not justify anything! Yes, I can say with pride that my phone contact 200, contact may be of the Hindi translation of the word means contact, contact means supposed to meet (I'm not sure) means to contact someone to meet! If I do have to contact the 200 beautifully appointed yet, the definition of contact tells my SIM contact memory is full, space limit is exceeded, it looks like the phone is speaking - you will not save so much contact can do, but to be seen whether such contact me save phone is really saying that or I'm lying to myself!
Well once I think, where did all this contact? Then I remembered, when I was at the wedding there were some older relatives who had great curiosity and changing their number, I also took my number and number of old college friends that was just because some will work in the future shall make the call!
Well, my thoughts are always engaged me, thank you for reading my thoughts!
Yes remembered



New Year wishes you the warmest, Word Press through for me, where I can put thoughts together in freedom! I hope the New Year brings a lot of happiness in your life!


(Actually, I am a lazy person so I have used Google translator to convert Hindi to English so maybe there are a lot of mistakes but sorry I can't help it  )
https://youtu.be/RbCHyMyjj4c

Comments

  1. Happy New Year to you too. I agree with what you have written. We know so many people, but how many do we 'know' truthfully?

    ReplyDelete
  2. So much of efforts...its so visible ...keep it up..liked few of your posts.

    ReplyDelete
  3. Hello I am so delighted I located your blog, I really located you by mistake, while I was watching on google for something else, Anyways I am here now and could just like to say thank for a tremendous post and a all round entertaining website. Please do keep up the great work. How to be happy in life

    ReplyDelete

Post a Comment

Please express your views Here!

Popular posts from this blog

Scientific reasons behind Hindu Rituals

Hinduism is the world’s oldest living religion and there are thousands of customs & traditions. Most of us really don’t know what is the scientific reason behind them even we have no idea about it. 1- Blowing Shankha(Conch shell) - In Hinduism, According to our ancient scriptures that Puranas, the shank originated during the Churning of the ocean (Samudra Manthan) by the Deities and Shri Vishnu held it in the form of weapon. As per a holy verse which is regularly chanted during the puja ritual it is mentioned that by the command of Shri Vishnu the deities Moon, Sun and Varun are stationed at the base of the shank , the deity Prajapati on its surface and all the places of pilgrimage like Ganga and Saraswati in its front part. We blown Shankh a before starting any religious event even some of the people blown it every day during their regular prayer. According to science, the blowing of a conch shell enhances the positive psychological vibrations such as courag

प्रेम पत्र २(पत्र का जवाब)

जैसा आपने पिछले पत्र में पढा था कि प्रेमिका रूठकर व्यंगपूर्ण पत्र लिखती है और जब यह पत्र उसके प्रेमी को मिलता है तो वो अपनी प्रेमिका को मनाने और भरोसा दिलाने के मकसद से पत्र का प्रेमपूर्ण जवाब लिखता है मगर मस्तिष्क में चलते गणित के कारण कैसे उसके विचार पत्र के माध्यम से निकलते हैं पढ़िए - IMG source - http://i.huffpost.com/gen/1178281/images/o-LETTER-TO-EX-facebook.jpg प्रेमी  अपनी प्रेमिका से - प्रेमिका मेरी ओ प्राण प्यारी! तुम्हे एक पल हृदय से ना दूर किया है , तुम्हारा और मेरा संग तो रसायन विज्ञान में जल बनाने की प्रक्रिया है ! जैसे हाइड्रोजन नहीं छोड़ सकती ऑक्सीजन का संग, भगवान ने ऐसा रचा है ,हमारा प्रेम प्रसंग|     दुविधा सुनो मेरा क्या हाल हुआ है, पूरा समय गति के समीकरणों में उलझ गया है ! कभी बल लगाकर पढ़ाई की दिशा में बढ़ता हूँ, कभी तुम्हारे प्रेम की क्रिया प्रतिक्रिया से पीछे तुम्हारी दिशा में खींचता हूँ|   मेरे विचारों का पाई ग्राफ उलझ जाता है , ये Tan@  के मान की तरह कभी ऋणात्मक अनंत तो कभी धनात्मक अनंत तक जाता है ! मेरे ग्राफ रूपी जीवन में सारे मान अस्थिर हैं , मगर तुम्हर स्थान म

पथ भ्रष्ट हैं इसलिए कष्ट हैं

क्यों पस्त हैं, क्या कष्ट है? किस अंधेर का आसक्त है। क्यों पस्त है कुछ बोल तू, अगर कष्ट में तो बोल तू, क्यों लड़ रहा हूं खुद से ही, ज़ुबान है तेरी भी, खोल तू। क्यों भ्रष्ट हैं, वो मस्त हैं, वो निगल रहे हैं सारा देश! हम कष्ट में, पथ भ्रष्ट हैं, नहीं बच रहा है कुछ भी शेष। वो भ्रष्ट हैं क्योंकि हम कष्ट में, वो मस्त हैं क्योंकि ख़ुद हम भ्रष्ट हैं। जो सख़्त हैं वो लड़ रहे हैं, जो कष्ट में भी बढ़ रहे हैं! जो कष्ट में भी सख़्त हैं, जो सख़्त हैं, वो समृद्ध हैं। क्यों हतप्रभ है, किसी समृद्ध से, तेरे भी हस्त हैं, चला इन्हें शस्त्र से! तेरे पास वक़्त है, तेरे पास शस्त्र हैं, फ़िर क्यों तू स्तब्ध है, यूं कष्ट में? क्यों निर्वस्त्र है अगर वस्त्र हैं, क्यों चल रहा ये नग्न भेष, अगर निर्वस्त्र ज्यादा सभ्य है, तो मत कहो कि मानव है विशेष। कहो जीव सारे सभ्य हैं, वो सब भी तो निर्वस्त्र हैं| सब निर्वस्त्र ही समृद्ध थे, तो कोई लाया ही क्यों ये वस्त्र है। अब ये वस्त्र हैं तो बढ़ा कष्ट है, कोई सभ्य है तो कोई निर्वस्त्र है। कुछ कटु सत्य हैं,