Recent Posts

/*
*/

Latest Posts

Post Top Ad

Post Top Ad

Quote

जब आप जिंदगी के किसी मोड़ पर लगातार असफल हो रहे हो तो आपके पास दो रास्ते हैं-
पहला रास्ता यह है, कि आप यहीं रुक जाओ और आने वाली पीढ़ी को यहाँ रुकने के बहाने गिनाओ !
दूसरा यह है, कि आप लगातार प्रयास करते रहो और इतने आगे बढ़ जाओ और खुद किसी का प्रेरणास्रोत बन जाओ|

Friday, September 13, 2019

Saturday, September 7, 2019

भारत दर्शन - रोडवेज बस 2

September 07, 2019 0
दृश्य : देहात की साधारण रोडवेज बस, जिसके महत्व का अनुमान आप केवल इस बात से लगा सकते हैं कि सलमान, शाहरुख या अक्षय कुमार को देखकर जितनी भीड़...
Read more »

Saturday, June 29, 2019

भारत दर्शन

June 29, 2019 0
दृश्य: सरकारी रोडवेज बस अड्डा, जहाँ आपको ढ़ेर सारी बस के आने जाने के बीच दफ़्तर ढूढ़ने के लिये आँखों में उतनी ही फुर्ती चाहिए, जितना कि किसी ...
Read more »

Monday, December 31, 2018

एक साल नया अब आने को

December 31, 2018 0
एक साल ख़त्म अब होने को, कहीं आँख मूँदकर सोने! नया साल शुरू अब होने को, कुछ पाने को कुछ खोने को। एक साल रेत सा फिसल गया, वक़्त अच्छा बु...
Read more »

Thursday, November 22, 2018

शाम हो गयी है।

November 22, 2018 0
कोशिशों की नीलामी सरेआम हो गयी है, ज़िन्दगी अब बहुत ही आम हो गयी है! बुनने उधेड़ने को कुछ बचा नहीं है, दिन की मंज़िल अब "आराम"...
Read more »

Friday, November 16, 2018

#Motivation

November 16, 2018 0
बुरी किस्मत कोई पत्थर की लकीर तो है नहीं! मैंने देखा है बड़ी-बड़ी नदियों को भी जगह बदलते हुए| - Shubhankar Thinks #thoughtofthed...
Read more »

Wednesday, November 14, 2018

Friday, November 9, 2018

चलो साथ तुम

November 09, 2018 0
कल किसने जाना है वक़्त किसी के वश में नहीं है! चीजों को चलने दो अपनी रफ़्तार से, इशारों पर तुम्हारे ये नाचेगी नहीं, ये जिंदगी है कोई ...
Read more »

Thursday, November 1, 2018

#RandomThought

November 01, 2018 0
1- वो कुछ ज्यादा ही अपने में मगरूर हैं और हम ख़ुद्दारी के लिए मशहूर हैं। 2- समेट लो सुकून के ये यादगार पल सारे, कहीं वक़्त...
Read more »

Thursday, October 25, 2018

Sunday, October 21, 2018

आदत बन गयी है

October 21, 2018 3
शराब पीने का मैं आदी नहीं था, मगर तेरी आँखों की मयकशी, अब लत बन गयी है| घुटन होती थी मुझे चादर ओढ़ने में, मगर मखमली सा जिस्म ओढ़ना, ...
Read more »

Post Top Ad